Showing posts with label congress. Show all posts
Showing posts with label congress. Show all posts

Express Adda : राहुल गांधी के वक्‍तव्‍य - 2013

 साल 2013 में राहुल गांधी ने कब कहां, क्‍या कहा, जानिये, इस पोस्‍ट में।

राहुल गांधी  ने कहा, "कांग्रेस पार्टी दुनिया का सबसे बड़ा परिवार है लेकिन इसमें बदलाव की ज़रूरत है। मगर सोच-समझ कर। सबको एक साथ लेकर बदलाव की बात करनी है और बदलाव लाना है। प्यार से, सोचसमझ के साथ, सबकी आवाज़ को सुनकर आगे बढ़ना है। वो सबको एक ही आंख से एक ही तरीके से देखेंगे चाहे वो युवा हो, कांग्रेस कार्यकर्ता हो, बुजुर्ग हो या फिर महिला हो।'' 
राहल ने कहा, " आज सुबह मैं चार बजे ही उठ गया और बालकनी में गया। सोचा कि मेरे कंधे पर अब बड़ी जिम्मेदारी है। अंधेरा था, ठंड थी। मैंने सोचा कि आज मैं वो नहीं कहूंगा जो लोग सुनना चाहते हैं। आज मैं वो कहूंगा जो मैं महसूस करता हूं।" राहुल बोले, "पिछली रात मेरी मां मेरे पास आई और रो पड़ी क्योंकि वो जानती हैं कि सत्ता ज़हर की तरह होती है। सत्ता क्या करती है। इसलिए हमें शक्ति का इस्तेमाल लोगों को सबल बनाने के लिए करना है।"
रविवार, 20 जनवरी 2013

राहुल गांधी ने कहा, ''डरने की नहीं बल्कि लड़ने की जरूरत है ताकि सच को सामने लाया जा सके। सोच को बदलने और सकारात्मक सोच के साथ देश में बदलाव लाने की जरूरत है।''
मंगलवार, 22 जुलाई, 2013

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा है कि गरीबी का मतलब भोजन, पैसे या अन्य भौतिक चीजों की कमी नहीं है बल्कि ये एक मनोदशा है.
मंगलवार, 6 अगस्त, 2013

राहुल गांधी ने कहा, 'मेरा अपना कोई सपना नहीं है। मैं अपने सपनों को कुचलना चाहता हूं और आपके सपनों को अपना बनाना चाहता हूं।'
बुधवार, 11 सितंबर, 2013

महाराष्‍ट्र में संबोधित करते हुए राहुल गांधी ने कहा, 'अगर कांग्रेस अपने दम पर जीतती है तो उसको एनसीपी जैसी सहयोगी पार्टियों के सहारे की जरूरत नहीं पड़ेगी''।
बुधवार, 25 सितंबर, 2013

जगदलपुर रैली में राहुल गांधी ने कहा, ''विपक्ष की सोच है कि एक या दो व्यक्ति देश चला सकते हैं जबकि कांग्रेस पार्टी आम आदमी को साथ लेकर चलती है।''
शुक्रवार, 26 सितंबर, 2013

राहुल गांधी ने कहा कि दागी नेताओं संबंधी सरकार द्वारा लाया गया अध्यादेश पूरी तरह बकवास है और इसे फाड़कर फेंक देना चाहिए।
शुक्रवार, 27 सितंबर, 2013

राहुल ने मनमोहन को लिखा है कि 'आप जानते हैं कि मेरे मन में आपके लिए बहुत ज्यादा सम्मान है। मैं ज्ञान के लिए आप ही की तरफ देखता हूं। मुश्किल हालात में जिस तरह से आप को नेतृत्व प्रदान कर रहे हैं वो सराहनीय है और मैं इसका कायल हूं। उम्मीद करता हूं कि आप इस विवादित मुद्दे पर मेरे दृढ़ विश्वास को भी समझेंगे।
शनिवार, 28 सितंबर 2013


राहुल गांधी ने कहा, 'मेरी मां ने मुझे बताया कि मेरे शब्द ज्यादा कड़े थे। मैं मानता हूं कि अध्यादेश को बकवास नहीं बताना चाहिए था। मेरी भावनाएं सही थीं, लेकिन शब्द ज्यादा कड़े हो गए थे।'
गुरुवार। 2 अक्‍टूबर 2013।


कुलवंत हैप्‍पी, संचालक Yuvarocks Dot Com, संपादक Prabhat Abha हिन्‍दी साप्‍ताहिक समाचार पत्र, उप संपादक JanoDuniya Dot Tv। पिछले दस साल से पत्रकारिता की दुनिया में सक्रिय, प्रिंट से वेब मीडिया तक, और वर्तमान इलेक्ट्रॉनिक मीडिया की छाया में।

Yuva Rocks Dot Com से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook  पर ज्वॉइन करें, Twitter पर फॉलो करे।

fact 'n' fiction : नरेंद्र मोदी का चुनावी घोषणा पत्र

वैसे तो हर बार राजनीतिक पार्टियां या गठबंधन अपना चुनावी घोषणा पत्र चुनावों से पूर्व जारी करते हैं, लेकिन इतिहास में पहली बार 'नरेंद्र मोदी : द मैन इन पीएम रेस' की ओर से अपना चुनावी घोषणा पत्र जारी किया गया है।

इस चुनावी घोषणा पत्र की एक कॉपी हमारे फर्जी सूत्रों द्वारा उपलब्‍ध करवाई गई है। केंद्र सरकार को उखाड़ फेंकने का आह्वान करने वाले नरेंद्र मोदी की ओर से चुनावी घोषणा पत्र युवा पीढ़ी और आम जनता को ध्‍यान में रखकर बनाया गया है। विकास पुरुष की ओर से इसमें विकास संबंधी कोई घोषणा नहीं, जो है वे आपके सामने रखने जा रहे हैं।

सोशल मीडिया स्‍वतंत्रता
मैं सोशल मीडिया के अस्‍तित्‍व को बरकरार रखने के लिये पुरजोर कोशिश करूंगा। मुझे पता है कि यह एक अभिव्‍यक्‍ति का सशक्‍त प्‍लेटफॉर्म है, बशर्ते कि आप इस तरह की गतिविधियों का संचालन नहीं करेंगे, जिससे मेरी सरकार को ख़तरा पैदा हो। पहले स्‍पष्‍ट कर दूं, मैं मनमोहन सिंह की तरह बेदाग और इमानदार रहूंगा, लेकिन नेताओं की गारंटी लेना मुश्‍िकल है। पांच उंगलियां एक बराबर नहीं होती।

हर शहर में लाल किला
सोशल मीडिया के अस्‍तित्‍व को बरकरार रखने के बाद मेरा अगला कदम होगा, हर शहर में लाल किला हो। मुझे इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर में बहुत विश्‍वास है। आप गुजरात में आकर देखिये, यहां पर वैशनूदेवी से लेकर बालाजी धाम तक के प्रतिरूप मॉडल मिलेंगे। महात्‍मा गांधी मंदिर के लिये करोड़ों खर्च कर रहा हूं, यह ओर्जिनल है। लाल किला जब हर शहर में होगा, तो मैं प्रधानमंत्री के रूप में आपके शहर में 15 अगस्‍त मना पाउंगा। हालांकि दीवाली का प्रोग्राम तो सीमा पर सेना जवानों के साथ पाकिस्‍तानी सरहद पर बम फोड़कर मनाने का फिक्‍स है।

एलके आडवाणी राष्‍ट्रपति होंगे
मेरे प्रिय व भाजपा को मजबूत करने वाले मेहनतकश नेता एलके आडवाणी, जिनकी वेटिंग रद्द हो गई, को प्रमोशन देते हुए राष्‍ट्रपति नियुक्‍त किया जायेगा, बशर्ते वे मेरे साथ राज्‍यपाल कमला बेनीवाल जैसा रिलेशन न रखें। नहीं तो मजबूरन, अध्‍यादेश लाने के कानूनों में बदलाव करने होंगे, जिसके लिये मौजूदा समय में राष्‍ट्रपति की जरूरत पड़ती है।

पाकिस्‍तान विलय
हमारे लोहपुरुष सरदार पटेल का स्‍वप्‍न अधूरा रहा गया, वे चाहते थे कि भारत एक सूत्र में  बंधे, लेकिन ऐसा नहीं हो सकता, क्‍यूंकि जिन्‍ना का जिन्‍न कुछ रियासतों को अपने साथ लेकर जाने में सफल हुये। हमारी कोशिश होगी कि आतंकवाद जैसी गंभीर बीमारी से जूझ रहे अपने पाकिस्‍तान को इस बीमारी से मुक्‍त किया जाये, और विलय से बेहतर विकल्‍प कोई नजर नहीं आता। भारत, वैसे तो इसका अर्थ प्रकाश, रत, लेकिन युवा पीढ़ी अर्थ कम ढूंढती है, उसको केवल पहले अक्षर का अर्थ भार समझ आता है, इसलिये इस भार को हल्‍का करने के लिये, भारत को 'हिन्‍दू' स्‍तान में परिवर्तित किया जायेगा, इंडिया को खत्‍म क्‍यूंकि इसके भी शुरूआती अक्षर, इंदिरा की याद दिलाते हैं।

ऑन लाइन वोटिंग सिस्‍टम

इस सिस्‍टम को लाना बहुत जरूरी है, क्‍यूंकि देश तरक्‍की की राह पर है। यहां के युवा आलसी हैं। जब से फेसबुक, टि्वटर, ऑनलाइन शॉपिंग, ऑनलाइन बिल पे सिस्‍टम शुरू हुआ है, तब से लाइनों में लगना बंद कर दिया, केवल आम आदमी लाइन में लगता है। और मेरी जीत की गारंटी फेसबुकिये और टि्वटरिये हैं। इसलिये इनके लिये ऑनलाइन वोटिंग प्रणाली जरूरी है, क्‍यूंकि यह क्‍यू में नहीं लगेंगे, और नहीं लगेंगे तो मेरा जीतना मुश्‍िकल है।

दागी नेताओं की छुट्टी
सत्‍ता में आने के बाद दागी नेताओं की छुट्टी करने पर विचार किया जायेगा। दागी नेताओं को बाहर का रास्‍ता दिखाने के लिये अदालती आदेशों को माना जायेगा, लेकिन उससे पहले सीबीआई व अन्‍य जांच एजेंसियों से बीजेपी के सभी नेताओं को क्‍लीन चिट दिलाई जायेगी। इस प्रक्रिया में विरोधी पार्टी के नेता भी शामिल हो सकते हैं, बशर्ते दिल्‍ली वाली गर्लफ्रेंड छोड़नी होगी।

बीजेपी के उच्‍च पदाधिकारियों ने इस संदर्भ में संपर्क करने पर बताया कि यह घोषणा पत्र पूर्ण रूप से फर्जी है। इसका वास्‍तविकता से कोई लेन देन नहीं, हालांकि कुछ तथ्‍य सही हो सकते हैं, बाकी कहानी काल्‍पनिक है। विश्‍वास कीजिये।

Disclaimer : fact 'n' fiction  सीरीज में व्‍यक्‍तियों के नाम असली हो सकते हैं, लेकिन इसकी लेखन शैली व कंटेंट पूर्ण रूप से काल्‍पनिक है। कुछ असली तथ्‍यों को आधार बनाकर कल्‍पना से इसकी रचना की जाती है।


कुलवंत हैप्‍पी, संचालक Yuvarocks Dot Com, संपादक Prabhat Abha हिन्‍दी साप्‍ताहिक समाचार पत्र, उप संपादक JanoDuniya Dot Tv। पिछले दस साल से पत्रकारिता की दुनिया में सक्रिय, प्रिंट से वेब मीडिया तक, और वर्तमान इलेक्ट्रॉनिक मीडिया की छाया में।

Yuva Rocks Dot Com से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook  पर ज्वॉइन करें, Twitter पर फॉलो करे।

fact 'n' fiction : सुशील कुमार शिंदे के निर्देशन में बनेगी 'डी - डे' रीमेक

निखिल अडवाणी, एक युवा फिल्‍म निर्देशक हैं। बॉलीवुड में 'कल हो न हो' से जोरदार दस्‍तक दी। दूसरी बार सलामे इश्‍क से दीदार हुआ, तो न सलाम हुआ, न इश्‍क हुआ। बड़े सितारों की अधिक चमक के नीचे दब गया निर्देशन का आसमान, लेकिन अगला साहसिक कदम 'चांदनी चौंक टू चाइना' के रूप में भरा, जो एक यादगार फिल्‍म निकली। जिसे फिल्‍म निर्माता एक बेहद बुरी घटना के रूप में याद करेंगे, और बच्‍चे एक मनोरंजक व इनवेंशनल फिल्‍म के रूप में।

बच्‍चे जब जवां होंगे, वो कहीं भी होंगे, निर्देशक निखिल आडवाणी की इस फिल्‍म को याद जरूर करेंगे, अगर उस समय पैर की किक से मानव उड़ रहे हुए तो, क्‍यूंकि निखिल आडवाणी ने 'चांदनी चौंक टू चाइना' में मिथुन दा की किक से अक्षय कुमार को बहुत उड़ाया, और आज कल अक्षय कुमार मिथुन दा के करियर को उड़ान दे रहे हैं, अपनी हर फिल्‍म में मिथुन दा को जगह देकर। इसके अलावा इस फिल्‍म के जरिये निखिल ने काफी अन्‍वेंषण किए हैं, जैसे कि छाते को पैराशूट में बदलने, यंत्रों से भाषाओं को ट्रांसलेट करने आदि।

अब निखिल आडवाणी की हालिया रिलीज 'डी-डे' भी एक यादगार फिल्‍म बनने की कारगार पर खड़ी है, अगर गृह (मंत्री) निर्देशक सुशील कुमार शिंदे के निर्देशन में यूपीए मोशन पिक्‍चर्स इसके जीवंत संस्‍करण को प्रस्‍तुत करने में सफल रही।

यह भी एक साहसिक कदम था निखिल आडवाणी का, क्‍यूंकि उन्‍होंने कराची में घूसकर दाउद अब्राहिम को मारने का साहस जो दिखाया, हालांकि बॉलीवुड दाउद अब्राहिम की दहशत वाली लोकप्रियता को छद्म नाम से कैश करता आ रहा है।  

गुप्‍त सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार यूपीए मोशन पिक्‍चर्स इस फिल्‍म के निर्माण के लिए विचार कर रहा है। इस बात का खुलासा उस समय हुआ, जब यूपीए के गृह निर्देशक सुशील कुमार शिंदे ने मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि इंडिया बहुत जल्‍द अमेरिका के साथ मिलकर दाउद अब्राहिम को पकड़ने के लिए मिशन पर निकलेगा।

वैसे इन दिनों अमेरिकी सरकारी फिल्‍म कंपनी ओबामा मोशन पिक्‍चर्स इराक टू के निर्माण को लेकर हर संभव प्रयास कर रही है, जिसकी शूटिंग सीरिया में करने की योजना है, लेकिन जी 20 से लेकर यूएन, अमेरिकी कांग्रेस तक ने इस फिल्‍म के निर्माण पर पुन र्विचार की बात कही है। इस बात से ओबामा मोशन पिक्‍चर्स के अधिकारी बेहद क्षुब्‍ध हैं, ऐसे में वे किसी भी अन्‍य प्रोडक्‍शन कंपनी के साथ हाथ मिला सकते हैं, खासकर भारतीय फिल्‍म कंपनी यूपीए मोशन पिक्‍चर्स के साथ, जो डी डे के जीवंत संस्‍करण की तैयारी में जुटी है।

निखिल आडवाणी ने सपने में भी नहीं सोचा होगा कि उसकी पांचवीं फिल्‍म डी डे एक इतिहासिक फिल्‍म होने की कारगार पर पहुंच जाएगी, जो बॉक्‍स ऑफिस पर खास कुछ नहीं कर सकी। इस फिल्‍म को भी राम गोपाल वर्मा की फिल्‍म कन्‍ट्रेक्‍ट की तरह याद किया जाएगा, जिसको देखने के बाद आंतकवादियों ने अहमदाबाद के सिविल अस्‍पताल को निशाना बनाया था।

फेक टॉक से बातचीत के दौरान गृह मंत्रालय के फेक सूत्रों ने बताया कि नरेंद्र मोदी के निरंतर हमलों से तंग परेशान यूपीए की चेयरपर्सन ने सभी सहयोगियों को नये आइडिये लाने के लिए कहा। जब सभी अलग अलग जगहों पर आइडियों की तलाश में जुटे हुए थे, तभी हमारे मंत्रालय के निर्देशक की निगाह दीवार पर लगे एक पोस्‍टर पर पड़ी, जिस पर दाउद का हमशकल छपा हुआ था। यह पोस्‍टर एक फिल्‍म का था। हमने उसकी फिल्‍म की बाजार से डुप्‍लीकेट सीडी खरीदी, और अध्‍ययन किया।

अंत आइडिया यूपीए मोशन पिक्‍चर्स की चेयरपर्सन को सुनाया और सभी सहयोगियों को पसंद आया। उन्‍होंने कहा कि फिल्‍म अंतरराष्‍ट्रीय रिश्‍तों पर आधारित है, ऐसे में भारतीय कलाकारों को लेना बेकूफी होगी। ऐसे में अमेरिकी सरकारी फिल्‍म कंपनी से बात करने पर सहमति बनी, जो शांति स्‍थापना के हिंसक फिल्‍में बनाने में माहिर है। फिलहाल उनको प्रस्‍ताव भेज दिया गया है। यकीन है कि वे इसके लिए तैयार हो जाएंगे।

फिल्‍म निर्माण से जुड़े सूत्रों का कहना है कि इसकी शूटिंग कराची के अलावा दुबई में भी हो सकती है। फिल्‍म का शुरूआती दौर मुम्‍बई, कराची में फिलमाये जाएंगे, उसके बाद क्‍लाइमैक्‍स के लिए दुबई के कुछ लोकेशनों का सहारा लिया जाएगा।

अगर डी डे जीवंत संस्‍करण बनने में सफल हो गया तो निखिल आडवाणी बॉलीवुड के सबसे बेहतर निर्देशक साबित हो सकते हैं। ऐसे में उनको अमेरिकी फिल्‍म कंपनियां अपने वहां निर्देशन का जिम्‍मा सौंप सकती हैं।

लेकिन सबसे बड़ी मुश्‍िकल यह है कि इस फिल्‍म के निर्माण के लिए यूपीए मोशन पिक्‍चर्स के पास केवल आगामी लोक सभा चुनावों तक समय है।


कुलवंत हैप्‍पी, संचालक Yuvarocks Dot Com, संपादक Prabhat Abha हिन्‍दी साप्‍ताहिक समाचार पत्र, उप संपादक JanoDuniya Dot Tv। पिछले दस साल से पत्रकारिता की दुनिया में सक्रिय, प्रिंट से वेब मीडिया तक, और वर्तमान इलेक्ट्रॉनिक मीडिया की छाया में।

Yuva Rocks Dot Com से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook  पर ज्वॉइन करें, Twitter पर फॉलो करे।

राहुल गांधी : तुम आये तो आया मुझे याद, गली में आज चाँद निकला

राहुल गांधी, युवा चेहरा। समय 2009 लोक सभा चुनाव। समय चार साल बाद । युवा कांग्रेस उपाध्‍यक्ष बना पप्‍पू। हफ्ते के पहले दिन कांग्रेस की मीडिया कनक्‍लेव। राहुल गांधी ने शुभारम्‍भ किया, नेताओं को चेताया वे पार्टी लाइन से इतर न जाएं। वे शालीनता से पेश आएं और सकारात्‍मक राजनीति करें। राहुल गांधी का इशारा साफ था। कांग्रेसी नेता अपने कारतूस हवाई फायरिंग में खत्‍म न करें। राहुल गांधी, जिनको ज्‍यादातर लोग प्रवक्‍ता नहीं मानते, लेकिन वे आज प्रवक्‍तागिरी सिखा रहे थे।

दिलचस्‍प बात तो यह है कि राहुल गांधी ख़बर बनते, उससे पहले ही नरेंद्र मोदी की उस ख़बर ने स्‍पेस रोक ली, जो मध्‍यप्रदेश से आई, जिसमें दिखाया गया कि पोस्‍टर में नहीं भाजपा का वो चेहरा, जो लोकसभा चुनावों में भाजपा का नैया को पार लगाएगा। सवाल जायजा है, आखिर क्‍यूं प्रचार समिति अध्‍यक्ष को चुनावी प्रचार से दूर कर दिया, भले यह प्रचार लोकसभा चुनावों के लिए न हो। कहीं न कहीं सवाल उठता है कि क्‍या शिवराज सिंह चौहान आज भी नरेंद्र मोदी को केवल एक समकक्ष मानते हैं, इससे अधिक नहीं। सवाल और विचार दिमाग में चल रहे थे कि दूर से कहीं चल रहे गीत की धुनें सुनाई पड़ी, ‘तुम आये तो आया मुझे याद, गली में आज चाँद निकला, जाने कितने दिनों के बाद, गली में आज चाँद निकला’ चांद से याद आता है राहुल गांधी का चेहरा, जो कुछ महीने पहले जयपुर में नजर आया था, और आज सोमवार को नजर आ रहा है। शायद दूर कहीं ये गीत सही वक्‍त पर बजा रहा है। काश यह गीत राहुल गांधी के समारोह के आस पास बजता तो राहुल आज की होट स्टोरी होते।

राहुल गांधी ने जमीनी राजनीति पर उतर कर बेटिंग करने को कहा। यकीनन कांग्रेस के लिए यह बहुत बेहतरीन सुझाव है, वैसे भी कहते हैं कि सुबह का भूला शाम को घर आए तो उसको भूला नहीं कहते, अगर कांग्रेस आज भी अपने ग्रामीण क्षेत्र के वोटरों को संभाल ले तो हैट्रिक लगा सकती है। कांग्रेस ने जयपुर में मंथन किया था, शायद वे जमीनी नहीं था। अगर होता तो कांग्रेस अपने कारतूसों को हवाई फायरिंग में खराब करने से बेहतर सही दिशा में खर्चती। कांग्रेस के दामन में दाग बहुत हैं, लेकिन कांग्रेस अपनी योजनाओं के सर्फ एक्‍सल से धो सकती है।

कांग्रेस केंद्र में है। उसके द्वारा शुरू की गई, योजनाएं एक अच्‍छी पहल हैं। केंद्र सरकार ने इन योजनाओं को लागू करने के लिए करोड़ों रुपए राज्‍य सरकारों को दिए, लेकिन राज्‍य सरकारों की गड़बड़ियों के कारण योजनाएं पिट गई, और दोष पूरा कांग्रेस के सिर मढ़ दिया गया। मिड डे मिल, जो आज चर्चा का कारण है, क्‍या उसमें केंद्र का दोष है ? नहीं, दोष है राज्‍य सरकारों का जो उसको अच्‍छी तरह से लागू नहीं कर पा रही। मनरेगा, रोजगार की गारंटी भी निश्‍चत एक अच्‍छी पहल है, लेकिन राज्‍य सरकारों की अनदेखी के कारण धूल फांक रही है, बदनामी की कल्‍ख कांग्रेस के माथे, हालांकि कुछ घोटालों के आरोपी नेता या मंत्री जेल की हवा तक खा चुके हैं।

कांग्रेस की समस्‍या है कि वे सोशल मीडिया को समझ नहीं पा रही। दरअसल कांग्रेस पुराने ढर्रे पर चल रही है, और भाजपा इस कमजोरी का फायदा उठाते हुए पूरी तरह सोशल मीडिया को कैप्‍चर कर रही है। कहते हैं कि सोशल मीडिया 160 लोकसभा सीटों को प्रभावित करता है। उसकी पहुंच 12 करोड़ भारतीयों तक है। मगर सोशल मीडिया पर एक बाज की नजर है, जो देश के 80 करोड़ लोगों तक पहुंच बनाए हुए है। जी हां, इलेक्‍ट्रोनिक मीडिया। आज देश का इलेक्‍ट्रोनिक मीडिया, मोदी की ब्रांडिंग कर रहा है। कांग्रेस किसी सहमे हुए बच्‍चे की तरह, डरी हुई किसी कोने में खड़ी पूरा तमशा देख रही है।

उसके कई कारण हैं। सबसे पहले कांग्रेस के पास एक दमदार प्रवक्‍ता नहीं। राहुल गांधी युवा पीढ़ी को प्रेरित करता था, लेकिन पिछले कुछ समय से उसकी चुप्‍पी ने युवा पीढ़ी को निराश किया, और युवा पीढ़ी का बहाव नरेंद्र मोदी की तरफ ऑटोमेटिक मुड़ गया। नरेंद्र मोदी के पास राजनीति में लम्‍बा संघर्ष, एक आदर्श राज्‍य की पृष्‍ठभूमि, 11 साल का नेतृत्‍व अनुभव है। राहुल के पास एक मां है, जो उसकी दादी की तरह दमदार प्रवक्‍ता नहीं। संप्रग के पास प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह है, जिसको लोग कथित तौर पर सोनिया गांधी संचालित टेलीविजन कहते हैं। जब भी उनसे राहुल गांधी के पीएम बनने के बारे में पूछा गया, तो उनका जवाब एक था आज कहो, आज पीछे हट जाता हूं, मतलब साफ है, वे केवल मास्‍क हैं।

राहुल गांधी की कलावती पटकथा हिट हुई तो युवा आइकन बन गए। कलावती के बाद राहुल गांधी की कोई पटकथा हिट नहीं हुई। उसका प्रभाव खत्‍म होने लगा। सोशल मीडिया ने उसको पप्‍पू करार दे दिया। राहुल गांधी ने जो कदम आज उठाया है, उस बच्‍चे की तरह, जो पेपरों से कुछ दिन पहले तैयारी करने बैठता है, नतीजा जो भी आए, अगर राहुल का मंत्र सफल हुआ तो शायद 2014 में अख़बारों की सुर्खियां यह शीर्षक बन सकता है ‘पप्‍पू पास हो गया”।

ईद के चांद की तरह नजर आने वाला राहुल गांधी शायद आम चांद की तरह नजर आए, और जो सोच वे कभी कभी जनता के सामने रखते हैं, वे प्रत्‍येक दिन रखे, हफ्ते, महीने में रखे तो स्‍थितियां बदल सकती हैं।

और वे गीत भी शायद कभी इतना रिलेवेंट न लगे, जो आज कहीं दूर से कानों में पड़ रहा है, जख्‍म फिल्‍म का पूजा भट्ट पर फिल्‍माया गया गीत ”तुम आये तो आया मुझे याद, गली में आज चाँद निकला जाने कितने दिनों के बाद, गली में आज चाँद निकला”