Showing posts with label सचिन तेंदुलकर. Show all posts
Showing posts with label सचिन तेंदुलकर. Show all posts

'सचिन' की जगह 'आमिर' होता तो अच्‍छा लगता

मैं सचिन की जगह आमिर का नाम किसी फिल्‍म के लिए नहीं बल्‍कि राज्‍य सभा सांसद के लिए सुझा रहा हूं। दोनों ही भारत की महान हस्‍तियों में शुमार हैं। दोनों ही अपने क्षेत्र में दिग्‍गज हैं। दोनों का कद काठ भी एक सरीखा है। मगर सोच में अंतर है, जहां आमिर खान सामाजिक मुद्दों पर अपनी बेबाक राय रखता है, वहीं सचिन तेंदुलकर क्रिकेट के मामलों में भी ज्‍यादा स्‍पष्‍ट राय नहीं दे पाते। सचिन को क्रिकेट के मैदान पर शांत स्‍वभाव से खेलना पसंद है, मगर आमिर खान को चुनौतियों से आमना सामना करना पसंद है, भले ही उसकी फिल्‍म को किसी स्‍टेट में बैन ही क्‍यूं न झेलना पड़े।

न मैं आमिर का प्रसंशक नहीं हूं, और न सचिन का आलोचक। मगर कल जब अचानक राज्‍य सभा सांसद के लिए सचिन का नाम सामने आया तो हैरानी हुई, यह हैरानी मुझे ही नहीं, बल्‍कि बहुत से लोगों को हुई, केवल सचिन के दीवानों को छोड़कर।

हैरानी तो इस बात से है कि उस सचिन ने इस प्रस्‍ताव को स्‍वीकार कैसे कर लिया, जो भारतीय क्रिकेट टीम की कप्‍तानी लेने से इसलिए इंकार करता रहा कि उसके खेल पर बुरा प्रभाव पड़ता है। सचिन का नाम सामने आते ही हेमा मालिनी का बयान आया, जो शायद चुटकी से कम नहीं था, और उसको साधारण समझा भी नहीं जाना चाहिए, जिसमें हेमा मालिनी कहती हैं कि राज्‍यसभा रिटायर लोगों के लिए है। अगर हेमा मालिनी, जो राज्‍य सभा सांसद रह चुकी हैं, के बयान को गौर से देखते हैं तो पहला सवाल खड़ा होता है कि क्‍या सचिन रिटायर होने वाले हैं?

नहीं नहीं ऐसा नहीं हो सकता, क्‍योंकि कुछ दिन पहले तो ख़बर आई थी कि सचिन ने कहा है, अभी उनमें दम खम बाकी है, और वह लम्‍बे समय तक क्रिकेट खेलेंगे। अगर सचिन अभी और क्रिकेट खेलना चाहते हैं। यकीनन वह रिटायर नहीं होने वाले, तो फिर राज्‍य सभा सांसद बनने का विचार उनके मन में कैसे आया?

मुझे लगता है कि क्रिकेट जगत से जुड़े कुछ राजनीतिक लोगों ने सचिन को फ्यूचर स्‍िक्‍यूर करने का आइडिया दे दिया होगा। यह आईडिया भी उन्‍होंने सचिन के अविवा वाले विज्ञापन से ही मारा होगा, क्‍यूंकि हक मारना तो नेताओं की आदत जो है। यह याद ही होगा न, इस विज्ञापन में सचिन सबको लाइफ स्‍क्‍ियूर करने की सलाह देते हैं।

सचिन की जगह आमिर को मैं इसलिए कहता हूं, क्‍यूंकि वह सामाजिक मुद्दों को लेकर बेहद संवेदनशील है, उसके अंदर एक आग है, जो समाज को बदलना चाहती है। अगर सचिन राजनीति में कदम रखते हैं तो मान लीजिएगा कि भारतीय राजनीति को एक और मनमोहन सिंह मिल गया। चुटकला मत समझिएगा, क्‍यूंकि मुझे चुटकले बनाने नहीं आते।

चलते चलते इतना ही कहूंगा, देश की राष्‍ट्रपति प्रतिभा पाटिल जी, जो देश की प्रथम नागरिक हैं, ऐसे लोगों का चुनाव करें, जो राजनीति में आने की दिली इच्‍छा रखते हों,और जिन्‍दगी में वह समाज सुधार के लिए अड़ भी सकते हों, वरना राज्‍य सभा में अगर कुछ कुर्सियां खाली भी पड़ी रहेंगी तो कोई दिक्‍कत नहीं होगी जनता को, क्‍यूंकि न बोलने वाले लोगों का होना भी न होने के बराबर है, जैसे कि हमारे प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह जी, पता नहीं कब बोलते हैं, बोलते भी हैं तो इंग्‍लिश में जो ज्‍यादातर भारतीयों को तो समझ भी नहीं आता, जबकि मैडम सोनिया हिन्‍दी में भाषण देती हैं, जो मूल इटली की हैं, इसको कहते है डिप्‍लोमेसी।