Showing posts with label विदेश. Show all posts
Showing posts with label विदेश. Show all posts

अमेरिका के पहले राष्‍ट्रपति जॉर्ज वाशिंगटन नहीं थे

जब 1776 में अमेरिकी कॉलोनियों को ब्रिटिश साम्राज्‍य से स्‍वतंत्रता मिली, और 1789 में जॉर्ज वाशिंगटन पहले राष्‍ट्रपति अमेरिका चुने गए।  लेकिन इतिहास के पन्‍ने पलटने पर यह पता चला है, वर्जिनिया का पहला राष्ट्रपति जॉर्ज वाशिंगटन नहीं हो सकता।
समस्‍या यह है कि इतिहासकारों ने अमेरिकी इतिहास के कुछ सालों को भूलाकर आगे से इतिहास लिखना शुरू कर दिया था। आजादी की लिखित घोषणा 1776 में हुई, लेकिन अमेरिका का संविधान 1787 में लिखा गया, और वाशिंगटन राष्‍ट्रपति 1789 में नियुक्त हुए। 

उन बीच के वर्षों में अमेरिका को एक सरकार द्वारा चलाया गया। इसका मतलब साफ है कि इस दौरान किसी पहले राष्‍ट्रपति द्वारा अमेरिका का नेतृत्‍व संभाला गया।  जी हां, अमेरिका के पहले राष्‍ट्रपति जॉन हैनसन हैं।

1776 में राष्‍ट्रीय सरकार के समय जॉन हैनसन महाद्वीपीय कांग्रेस, अमेरिकन कॉलोनीज के अध्‍यक्ष थे। जब उन्‍होंने आजादी के घोषणा पत्र पर हस्‍ताक्षर किए, तत्‍काल उनको अमेरिका का राष्‍ट्रपति बनाया गया था। 

दूसरा, पहला राष्‍ट्रपति सैम्‍यूल होंटिंगटन थे, लेकिन उनको नजरअंदाज किया गया, क्‍यूंकि उसने एक परिभाषा पर अपना टाइटल अर्जित किया था। वे 1981 कांटिनेंटल कांग्रेस के अध्‍यक्ष थे, तब आर्टिकल ऑफ कन्‍फेडेरेशन पारित किया गया, और पहला राष्‍ट्रपति आर्टिकल्‍स के तहत चुना गया, और उसने अपना कार्यकाल पूरा किया, वे थे जॉन हैनसन, जो मैरीलैंड से आते थे। 

बहुत सारे इतिहासकार इस बात को सही ठहराते हुए जॉन हैनसन को अमेरिका का पहला राष्‍ट्रपति मानते हैं। रिमेम्‍बरिंग जॉन हैनसन के लेखक पीटर एच माइकल लिखते हैं कि जॉर्ज वाशिंगटन खुद जॉन हैनसन को राष्‍ट्र का पहला राष्‍ट्रपति कहते थे।

पाकिस्तान में राष्ट्रपति पद के लिए चुनाव 6 अगस्त को

इस्लामाबाद: पाकिस्तान में अगले राष्ट्रपति का चुनाव 6 अगस्त को मौजूदा राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी का कार्यकाल समाप्त होने से दो दिन पहले किया जाएगा।

मुख्य निर्वाचन आयुक्त फकरूद्दीन जी इब्राहिम ने चुनाव के लिए प्रस्तावित तारीखों का अनुमोदन कर दिया है। अधिकारियों के हवाले से मीडिया में आज यह जानकारी दी गई है।

इस समय दुबई और लंदन की निजी यात्रा पर गए जरदारी अगला राष्ट्रपति पद का चुनाव नहीं लड़ेंगे। उनके प्रवक्ता फरहतुल्ला बाबर ने सोमवार को यह जानकारी दी थी। बाबर ने इन अफवाहों का भी खंडन किया था कि जरदारी अपने कार्यकाल की समाप्ति से पूर्व पाकिस्तान नहीं लौटेंगे ।

नेशनल और प्रांतीय असेम्बलियों में राजनीतिक दलों के संख्या बल के अनुसार, प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की सत्तारूढ़ पीएमएल (एन) पार्टी का उम्मीदवार आराम से चुनाव जीत जाएगा।

चार प्रांतीय असेम्बलियां और संसद के दोनों सदन राष्ट्रपति चुनाव के लिए निर्वाचक मंडल का गठन करते हैं और मतदान असेम्बलियों में कराया जाता है।

सरकारी कार्यक्रम के अनुसार, राष्ट्रपति पद के चुनाव के लिए नामांकन दाखिल करने की अंतिम तारीख 24 जुलाई होगी। नामांकन पत्रों की जांच का काम 26 जुलाई को होगा तथा सत्यापित उम्मीदवारों के नामों की घोषणा 29 जुलाई को की जाएगी।

जरदारी ने वर्ष 2008 में पूर्व सैन्य शासक परवेज मुशर्रफ का स्थान लिया था और उनके पांच साल का कार्यकाल 8 सितंबर को पूरा हो जाएगा। अभी तक किसी राजनीतिक दल ने इस पद के लिए अपने उम्मीदवार के नाम की घोषणा नहीं की है।