Showing posts with label भाजपा. Show all posts
Showing posts with label भाजपा. Show all posts

एक ख़त आम आदमी पार्टी के नाम

नमस्कार। सबसे पहले आप को बधाई शानदार शुरूआत के लिए। कल जब रविवार को न्यूज चैनलों की स्क्रीनें, क्रिकेट मैच के लाइव स्कोर बोर्ड जैसी थी, तो मजा आ रहा था, खासकर दिल्ली को लेकर, दिल्ली में कांग्रेस का पत्ता साफ हो रहा था, तो भाजपा के साथ आप आगे बढ़ रहे थे, लेकिन दिलचस्प बात तो यह थी कि चुनावों से कुछ दिन पहले राजनीति में सक्रिय हुई पार्टी बाजी मारने में सफल रही,हालांकि आंकड़ों की बात करें तो भाजपा शीर्ष है, मगर बात आप के बिना बनने वाली नहीं है। यह बात तो आपको भी पता थी कि कुछ समीकरण तो बिगड़ने वाला है, मगर आप ने इतने बड़े फेरबदल की उम्मीद नहीं की थी। अगर आपको थोड़ी सी भी भनक होती तो यकीनन सूरत ए हाल कुछ और होता। आप प्रेस के सामने आए, बहुत भावुक थे, होना भी चाहिए, ऐसा क्षण तो बहुत कम बार नसीब होता है। अब आप को अपने कार्यालय के बाहर एक शेयर लिखकर रखना चाहिए,

मशहूर हो गया हूं तो जाहिर है दोस्तो, अब कुछ इलजाम मेरे स​र भी आएंगे
जो गुरबत में अक्सर नजर चुराते थे, अब देने बधाई मेरे घर भी आएंगे

मगर अब आप विपक्ष में बैठने की बात कर रही है, जो सही नहीं। नतीजे आप ने बदले हैं, मुख्यमंत्री को आप पार्टी ने हराया है, तो यकीनन सत्ता आप के हाथों में होनी चाहिए। गेंद को बीजेपी के पाले में धकेलने का मतलब दिल्ली की जनता के साथ किए वचनों से किनारा करना है। अगर कांग्रेस व भाजपा को उखाड़ना चाहते थे, लेकिन अब सत्ता से छीनकर दूसरे को देना चाहते हैं। न इंसाफी है। क्यूंकि आटे में नमक जितना तो गुनाह माफ है। पूरी सत्ता पुरानी पार्टी के हाथ में देने से अच्छा है, कुछ कांग्रेसियों को साथ ले लो, क्यूंकि राजनी​ति में अच्छे लोग भी होते हैं। मैं फिर कहता हूं, आप को सत्ता संभालनी चाहिए, राजनीति व जंग में सब जायज है। अगर आप अब पीछे हटते हैं तो शायद दिल्ली की जनता के साथ न इंसाफी होगी, क्यूंकि आप का विपक्ष में बैठना, स्वयं को सुरक्षित करना होगा। क्यूंकि आप के ज्यादातर राजनीतिक प्रतिनिधि राजनीति से दूर रहे हैं, उनको प्रजातंत्र में शासन करना अभी से नहीं आएगा, शायद इसलिए आप सत्ता के लोभी नजर नहीं आ रहे, या फिर वह एक माहौल बना रहे हैं, ताकि जनता का समर्थन मिल जाए, व बड़ी सुखद के साथ कांग्रेस के साथ चले जाएं।

केजरीवाल अब आप सत्ता से केवल एक फैसला दूर हैं, लेकिन मैं भी जानता हूं, और आप भी कि फैसले लेने से अधिक चुनौतीपूर्ण कार्यकाल होगा, क्यूंकि आप को उन वायदों पर पूरा उतरना होगा, जो सीना ठोक कर किए हैं, अगर भाजपा आती है तो उनको पांच साल सुरक्षित रहने का मौका मिल जाएगा, और राजनीति में स्वयं को परिपक्व कर पाएंगे। मगर मैं दूसरे नजरिये से सोचता हूं, अनाड़ी आदमी संभालकर वाहन चाहता है, तो धीमा चलता है, मगर अच्छा चलता है, अगले साल देश में क्रांति का बिगुल बज सकता है, अगर आप विपक्ष की बजाय सत्ता संभालें। आपको सकारात्मक रहना है तो विपक्ष के साथ रहें, अपनी रखें, व उनकी सुनें।   

मगर मेरा निजी ख्याल है कि आप केजरीवाल को राजनीति में उतरने के बाद, इतना स्नेह व समर्थन पाने के बाद अब कदम पीछे नहीं हटाना चाहिए, उनको कांग्रेस के साथ दिल्ली में सरकार बनाते हुए आगे बढ़ना चाहिए, इससे दो फायदे होंगे, उनके नेताओं को भी कुछ सीखने को मिलेगा, और आपको भी कांग्रेस के अनुभवियों से सीखने को मिलेगा।

आप के साहस को सलाम। मगर अब आप को वह फैसला लेना है, जो दिल्ली के लोगों के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। विपक्ष में बैठकर शायद मांगों को पूरा करवाना वैसा ही जैसे मनमोहन सिंह के निजी तरीकों को सोनिया गांधी की मंजूरी के बाद लागू करना, सत्ता आप को अपने हाथ में लेनी चाहिए। रोटी तो दिल्ली वासियों ने परोस दी है, लेकिन निवाला तोड़कर मुंह में स्वयं को डालना होगा, दिल्लीवासियों के विश्वास का कर्ज अदा करना होगा।

बाकी जीत आपकी, फैसला आपका। देश इंतजार में है। मैं भी। चलते चलते एक और शेयर आपके नाम।

हक़ीकत की तह तक पहुँच तो गए लेकिन सच में ख़ुद को उतारेंगे कैसे।
न जीने की चाहत, न मरने की हसरत यूँ दिन ज़िन्दगी के गुज़ारेंगे कैसे।

रेप मुआवजे से नरेंद्र मोदी पर चुटकियां लेती शिव सेना तक

जम्‍मू कश्‍मीर की कमान एक युवा नेता उमर अब्‍दुला के हाथ में है, लेकिन शनिवार को उनकी सरकार की ओर से लिए एक फैसले ने उनको सवालों के घेरे में लाकर खड़ा कर दिया। जम्‍मू कश्‍मीर सरकार ने रेप पीड़ित को मुआवजे वाली लिस्‍ट में शामिल किया है। अगर युवा नेता उमर अब्‍दुला इस मुआवजे वाली सूची को जारी करने की बजाय बलात्‍कारी को सजा देने वाली सूची जारी करते तो शायद भारतीय युवा पीढ़ी को ही नहीं, बल्‍कि देश की अन्‍य राज्‍यों की सरकारों को भी सीख मिलती। उमर अब्‍दुला, इज्‍जत औरत का सबसे महंगा गहना होती है, उसकी कीमत आप ने ज्‍वैलरी से भी कम आंक दी। उसको मुआवजे की नहीं, उसको सुरक्षा गारंटी देने की जरूरत है। उसको जरूरत है आत्‍मराक्षण के तरीके सिखाने की, उसको जरूरत है आत्‍मविश्‍वास पैदा करने वाली आवाज की। अगर इज्‍जत गंवाकर पैसे लेने हैं तो वे कहीं भी कमा सकती है। आपके मुआवजे से कई गुना ज्‍यादा, जीबी रोड दिल्‍ली में अपना सब कुछ दांव पर लगाकर पैसा कमाती बेबस लाचार लड़कियां महिलाएं इसकी  साक्षात उदाहरण हैं। जख्‍मों पर नमक छिड़ने का काम अगर आज के युवा नेता करने लग गए तो शायद देश की सत्‍ता युवा हाथों में सौंपते हुए देश की जनता डरेगी। वैसे भी आज देश की जनता युवाओं की तरह फुर्तीफे दिखने वाले 60 पार कर चुके गुजरात के मुख्‍यमंत्री नरेंद्र मोदी को सौंपने के लिए पैरों की उंगलियों पर खड़ी है, भले एनडीए की सहयोगी पार्टियां इस बात को स्‍वीकार करने में थोड़ा सा कतराती हों।

एनडीए की सबसे बड़ी सहयोगी पार्टी बाला साहेब ठाकरे की शिव सेना है, जिसका नेतृत्‍व उद्धव ठाकरे जैसे युवा नेता के हाथ में है। इस पार्टी के मुख्‍य समाचार पत्र सामना हिन्‍दी में नरेंद्र मोदी को केंद्र बिंदु बनाकर संपादकीय लिखा गया है, जो पहले शिव सेना सुप्रीमो बाला साहेब ठाकरे के विचारों का कॉलम माना जाता था, और अब वे उद्धव ठाकरे के विचारों का। भुज के लालन कॉलेज से गुजरात के मुख्‍यमंत्री नरेंद्र मोदी ने दिल्‍ली के लाल किले पर स्‍वतंत्रता दिवस के मौके राष्‍ट्रीय ध्‍वज लहराने वाले देश के प्रधानमंत्री पर जुबानी हमला बोला। 
यह साढ़े छह दशक पुराने लोकतंत्र में पहला मौका था, जब एक प्रधानमंत्री के राष्‍ट्र नाम दिए भाषण को किसी मुख्‍यमंत्री ने आड़े हाथों लिया हो। इस भाषण के बाद पार्टी के शीर्ष नेता लाल कृष्‍ण आडवाणी भी पार्टी के इस तेज तरार नेता से असहमत नजर आए, जिसका जिक्र संपादकीय में किया गया है। संपादकीय में लिखा कि नरेंद्र मोदी किसी और दिन भी यह कसर पूरी कर सकते थे। संपादकीय में शिवसेना मोदी की तारीफ करती है, लेकिन चुटकियां लेते हुए, जैसे कि मोदी के नेतृत्‍व में गुजरात में अच्‍छा काम काज हुआ, और उसके लिए उनकी प्रशंसा करने में किसी को आपत्‍ति नहीं होनी चाहिए। स्‍पर्धा का घोड़ा कितना भी क्‍यूं न दौड़े, लेकिन दिल्‍ली की राजनीति में आखिरी क्षण में खरारा 'एक प्रकार की कंघी' करने वाले ही जीतते हैं, ऐसा आज तक का अनुभव है।
आगे कहते हैं, मनमोहन सिंह से युद्ध की भाषा झेली नहीं जाती, और आक्रामकता उनसे बर्दाशत नहीं होती। मोदी मात्रा आक्रामक बोलकर जनभावना की तोप दाग रहे हैं। फिर भी स्‍वतंत्रता दिवस के मौके पर देश के प्रधानमंत्री को इस तरह बेइज्‍जत करना ठीक है क्‍या? आगे संपादकीय में उद्धव एलके आडवाणी की तारीफ करते हुए लिखते हैं, आडवाणी की देशभक्‍ति भी गरम और उनका अनुभव भी मजबूत है। भारतीय जनता पार्टी जिस तरह के मीठे फल चख रही है, उसका श्रेय आडवाणी को ही जाता है। 

मोदी पर चुटकी लेते हुए, आज मोदी ने कांग्रेस के खिलाफ रणभेरी बजाकर आग लगा दी है यह सच है। उस आग की ज्‍वाला कई बार आग लगाने वाले को ही झुलसा देती है। शिव सेना आगे कहती है कि जो लालन कॉलेज से नरेंद्र मोदी ने बोला, कल वे उसके सामने आने वाला है। यकीनन अगर कांग्रेस वहां से आउट होती है तो नरेंद्र मोदी के सामने वे सब चुनौतियां आएंगी, जिसको लेकर वे मनमोहन सिंह पर हल्‍ला बोल रहे हैं।
प्रधानमंत्री पद का उम्‍मीदवार नरेंद्र मोदी को बनाने की बात पर शिव सेना के उद्धव ठाकरे हमेशा बच निकलते हैं, लेकिन संपादकीय के पहले अध में कहते हैं कि प्रधानमंत्री पद का उम्‍मीदवार चुनना भाजपा का अंदरूनी मामला है, वहीं अंत तक आते आते वे सरदार पटेल से मोदी की तुलना करते हुए कहते हैं कि हमे विश्‍वास है कि मोदी के हाथ में सरदार पटेल की तरह दिल्‍ली की सत्‍ता आएगी, उस समय देश लूटने वाले सारे डकैतों को वे जेल का रास्‍ता दिखाएंगे।

उद्धव ठाकरे उक्‍त लाइन में एक बात स्‍पष्‍ट कर रहे हैं कि नरेंद्र मोदी के हाथ में जो सत्‍ता है वे सरदार पटेल की तरह आएगी, मतलब उप प्रधानमंत्री, प्रधानमंत्री नहीं। सरदार पटेल देश के पहले प्रधानमंत्री होते, लेकिन कहते हैं कि महात्‍मा गांधी के कारण जवाहर लाल नेहरु प्रधानमंत्री बने, और पटेल उप प्रधानमंत्री। उद्धव ठाकरे भले ही कुछ स्‍पष्‍ट न कर रहे हों, लेकिन कहीं न कहीं इस बात का संदेश जरूर दे रहे हैं कि प्रधानमंत्री पद तक पहुंचने के लिए नरेंद्र मोदी के आगे कोई तो है, वे राजनाथ सिंह है, वे अरुण जेटली है,  वे सुषमा स्‍वराज है या कोई अन्‍य, पता नहीं, लेकिन एलके आडवाणी यहां गांधी की भूमिका अदा करना चाहेंगे।
 संपादकीय का अंतिम पड़ाव भी किसी चुटकी से कम नजर नहीं आता। जिसमें कहा गया है, वे दाऊद इब्राहिम, सईद हाफिज, मेमन टाइगर जैसों को पाकिस्‍तान से घसीटते हुए लाएंगे, लाकर फांसी पर लटकाएंगे। जो धन स्‍विस बैंक में पड़ा है उसको कार्गो हवाई जहाज में लादकर भारतीय सीमा में लाएंगे। ऐसा करने में मोदी पूरी तरह सक्षम हैं, हमको तिल जितनी भी शंका नहीं। यह बात उस समय किसी व्‍यंग से कम नहीं लगती, जब किसी भी देश में घुसने के लिए किसी विशेष कानूनी प्रक्रिया से होकर गुजरना पड़ता हो।

अंत में शिव सेना कहती है कि मोदी ने गुजरात के रेगिस्‍तान से जो तोप दागी, उससे पाकिस्‍तान को फर्क पड़ा या नहीं, इसका तो पता नहीं, लेकिन मोदी की तोप से निकले गोले के कारण दिल्‍ली के कांग्रेसी नेताओं ने नींद की गोलियों का ऑर्डर दे दिया है।

स्‍वतंत्रता दिवस पर लालन कॉलेज वर्सेस लाल किला

आजाद भारत का शायद पहला स्‍वतंत्रता दिवस होगा। जब राष्‍ट्र के लोग इस दिन मौके होने वाले आयोजित समारोह में अधिक दिलचस्‍प लेंगे। इसका मुख्‍य कारण मौजूदा प्रधानमंत्री और संभावित प्रधानमंत्री पद के दावेदार के बीच सीधी टक्‍कर। एक हर बार की तरह लाल किले तो तिरंगा फरहाएंगे तो दूसरे भुज के लालन कॉलेज से।
ऐसे में इलेक्‍ट्रोनिक मीडिया के कैमरे दोनों तरफ तोपों की तरह तने रहेंगे। देश के प्रधानमंत्री होने के नाते मीडिया मनमोहन सिंह की उपस्‍थिति वाले समारोह को नजरअंदाज नहीं कर सकता, वहीं दूसरी तरफ संभावित प्रधानमंत्री पद के उम्‍मीदवार के रूप में उभरकर सामने आ रहे नरेंद्र मोदी को भी जनता सुनना चाहेगी, जो वैसे भी आजकल टेलीविजन टीआरपी के लिए एनर्जी टॉनिक हैं।

गुजरात के मुख्‍यमंत्री नरेंद्र मोदी ने स्‍वयं गुजरात के भुज में आयोजित युवाओं की एक सभा को संबोधित करते हुए कहा, ‘जब हम तिरंगा फहराएंगे तो संदेश लाल किला तक भी पहुंचेगा। राष्ट्र जानना चाहेगा कि वहां क्या कहा गया और भुज में क्या कहा गया।’

इस नरेंद्र मोदी की बात में कोई दो राय नहीं। देश की जनता बिल्‍कुल जानना चाहेगी, लेकिन उससे भी ज्‍यादा उतावला होगा भारतीय इलेक्‍ट्रोनिक मीडिया। बस डर है कहीं, नरेंद्र मोदी लाइव न हो जाए, और देश के प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह का भाषण अगले दिन आने वाले समाचार पत्रों में पढ़ने को मिले।

उधर, सीधे तौर पर प्रधानमंत्री का जिक्र न करते हुए मोदी ने कहा, ‘एक तरफ वादों की झड़ी होगी तो दूसरी ओर किए गए काम का लेखा-जोखा होगा। एक तरफ निराशा होगी तो दूसरी तरफ आशा होगी।’ आपको बता दें कि गुजरात में स्वतंत्रता दिवस का आधिकारिक समारोह भुज में मनाया जाएगा जहां मोदी राष्ट्रीय ध्वज फहराएंगे।

आप इसे संयोगवश कहें या जान बुझकर चुना गया स्‍थान, लेकिन 15 अगस्‍त को आयोजित होने वाले इन दोनों समारोह को अगर कुछ जोड़ता है तो लाल। एक तरफ लाल किला, दूसरी तरफ भुज का लालन कॉलेज। दोनों में लाल शब्‍द है। इन दिनों जगहों पर तिरंगा लहराने वाले शख्‍सियतों के आगे प्रधानमंत्री शब्‍द भी जुड़ता है, एक संभावित प्रधानमंत्री पद प्रत्‍याशी हैं तो दूसरे मौजूदा प्रधानमंत्री।

अब देखना यह रहेगा कि स्‍वतंत्रता दिवस पर तिरंगा लहराने वाली दोनों शख्‍सियतों में से अगले साल लाल किले पर तिरंगा कौन फहराता है ? क्‍या लालन कॉलेज से नरेंद्र मोदी लाल किले तक पहुंच सकेंगे ?  जिन्‍होंने पार्टी की उन बाधाओं को तो पार कर लिया, जो उनके प्रधानमंत्री पद के उम्‍मीदवार बनने के रास्‍ते में थीं, क्‍यूंकि पिछले दिनों एक टेलीविजन को दिए विशेष साक्षात्‍कार में भाजपा के महासचिव राजीव प्रताप रूढ़ी ने साफ साफ कहा कि जनता की आवाज सुनी जाएगी और अगस्‍त के अंत तक नरेंद्र मोदी को पीएम पद का उम्‍मीदवार घोषित किया जाएगा। यह तो पहला साबूत है।

नरेंद्र मोदी पर मौसम साफ होने का दूसरा संकेत यूपीए के खिलाफ चार्जशीट के रूप में लॉन्‍च की अपनी वेबसाइट इंडिया 272 को करते हुए दिया। इस वेबसाइट पर गुजरात के मुख्‍यमंत्री नरेंद्र मोदी के अलावा कोई चेहरा नजर नहीं आ रहा है। इस वेबसाइट को लॉन्‍च तो भाजपा पार्टी ने किया, लेकिन वहां चेहरा केवल नरेंद्र मोदी का, भाजपा का यह कदम उस बात को चरितार्थ कर रहा है, जिसमें कहा गया था भाजपा एकमत है।

अब एक और सवाल के साथ आपसे अलविदा लेते हैं कि क्‍या अगले साल होने वाले लोक सभा चुनावों के बाद आजाद भारत को आजाद भारत में जन्‍मे किसी नागरिक को प्रधानमंत्री बनते देखने का मौका मिलेगा या पांच साल और इंतजार करना होगा ?

राहुल गांधी : तुम आये तो आया मुझे याद, गली में आज चाँद निकला

राहुल गांधी, युवा चेहरा। समय 2009 लोक सभा चुनाव। समय चार साल बाद । युवा कांग्रेस उपाध्‍यक्ष बना पप्‍पू। हफ्ते के पहले दिन कांग्रेस की मीडिया कनक्‍लेव। राहुल गांधी ने शुभारम्‍भ किया, नेताओं को चेताया वे पार्टी लाइन से इतर न जाएं। वे शालीनता से पेश आएं और सकारात्‍मक राजनीति करें। राहुल गांधी का इशारा साफ था। कांग्रेसी नेता अपने कारतूस हवाई फायरिंग में खत्‍म न करें। राहुल गांधी, जिनको ज्‍यादातर लोग प्रवक्‍ता नहीं मानते, लेकिन वे आज प्रवक्‍तागिरी सिखा रहे थे।

दिलचस्‍प बात तो यह है कि राहुल गांधी ख़बर बनते, उससे पहले ही नरेंद्र मोदी की उस ख़बर ने स्‍पेस रोक ली, जो मध्‍यप्रदेश से आई, जिसमें दिखाया गया कि पोस्‍टर में नहीं भाजपा का वो चेहरा, जो लोकसभा चुनावों में भाजपा का नैया को पार लगाएगा। सवाल जायजा है, आखिर क्‍यूं प्रचार समिति अध्‍यक्ष को चुनावी प्रचार से दूर कर दिया, भले यह प्रचार लोकसभा चुनावों के लिए न हो। कहीं न कहीं सवाल उठता है कि क्‍या शिवराज सिंह चौहान आज भी नरेंद्र मोदी को केवल एक समकक्ष मानते हैं, इससे अधिक नहीं। सवाल और विचार दिमाग में चल रहे थे कि दूर से कहीं चल रहे गीत की धुनें सुनाई पड़ी, ‘तुम आये तो आया मुझे याद, गली में आज चाँद निकला, जाने कितने दिनों के बाद, गली में आज चाँद निकला’ चांद से याद आता है राहुल गांधी का चेहरा, जो कुछ महीने पहले जयपुर में नजर आया था, और आज सोमवार को नजर आ रहा है। शायद दूर कहीं ये गीत सही वक्‍त पर बजा रहा है। काश यह गीत राहुल गांधी के समारोह के आस पास बजता तो राहुल आज की होट स्टोरी होते।

राहुल गांधी ने जमीनी राजनीति पर उतर कर बेटिंग करने को कहा। यकीनन कांग्रेस के लिए यह बहुत बेहतरीन सुझाव है, वैसे भी कहते हैं कि सुबह का भूला शाम को घर आए तो उसको भूला नहीं कहते, अगर कांग्रेस आज भी अपने ग्रामीण क्षेत्र के वोटरों को संभाल ले तो हैट्रिक लगा सकती है। कांग्रेस ने जयपुर में मंथन किया था, शायद वे जमीनी नहीं था। अगर होता तो कांग्रेस अपने कारतूसों को हवाई फायरिंग में खराब करने से बेहतर सही दिशा में खर्चती। कांग्रेस के दामन में दाग बहुत हैं, लेकिन कांग्रेस अपनी योजनाओं के सर्फ एक्‍सल से धो सकती है।

कांग्रेस केंद्र में है। उसके द्वारा शुरू की गई, योजनाएं एक अच्‍छी पहल हैं। केंद्र सरकार ने इन योजनाओं को लागू करने के लिए करोड़ों रुपए राज्‍य सरकारों को दिए, लेकिन राज्‍य सरकारों की गड़बड़ियों के कारण योजनाएं पिट गई, और दोष पूरा कांग्रेस के सिर मढ़ दिया गया। मिड डे मिल, जो आज चर्चा का कारण है, क्‍या उसमें केंद्र का दोष है ? नहीं, दोष है राज्‍य सरकारों का जो उसको अच्‍छी तरह से लागू नहीं कर पा रही। मनरेगा, रोजगार की गारंटी भी निश्‍चत एक अच्‍छी पहल है, लेकिन राज्‍य सरकारों की अनदेखी के कारण धूल फांक रही है, बदनामी की कल्‍ख कांग्रेस के माथे, हालांकि कुछ घोटालों के आरोपी नेता या मंत्री जेल की हवा तक खा चुके हैं।

कांग्रेस की समस्‍या है कि वे सोशल मीडिया को समझ नहीं पा रही। दरअसल कांग्रेस पुराने ढर्रे पर चल रही है, और भाजपा इस कमजोरी का फायदा उठाते हुए पूरी तरह सोशल मीडिया को कैप्‍चर कर रही है। कहते हैं कि सोशल मीडिया 160 लोकसभा सीटों को प्रभावित करता है। उसकी पहुंच 12 करोड़ भारतीयों तक है। मगर सोशल मीडिया पर एक बाज की नजर है, जो देश के 80 करोड़ लोगों तक पहुंच बनाए हुए है। जी हां, इलेक्‍ट्रोनिक मीडिया। आज देश का इलेक्‍ट्रोनिक मीडिया, मोदी की ब्रांडिंग कर रहा है। कांग्रेस किसी सहमे हुए बच्‍चे की तरह, डरी हुई किसी कोने में खड़ी पूरा तमशा देख रही है।

उसके कई कारण हैं। सबसे पहले कांग्रेस के पास एक दमदार प्रवक्‍ता नहीं। राहुल गांधी युवा पीढ़ी को प्रेरित करता था, लेकिन पिछले कुछ समय से उसकी चुप्‍पी ने युवा पीढ़ी को निराश किया, और युवा पीढ़ी का बहाव नरेंद्र मोदी की तरफ ऑटोमेटिक मुड़ गया। नरेंद्र मोदी के पास राजनीति में लम्‍बा संघर्ष, एक आदर्श राज्‍य की पृष्‍ठभूमि, 11 साल का नेतृत्‍व अनुभव है। राहुल के पास एक मां है, जो उसकी दादी की तरह दमदार प्रवक्‍ता नहीं। संप्रग के पास प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह है, जिसको लोग कथित तौर पर सोनिया गांधी संचालित टेलीविजन कहते हैं। जब भी उनसे राहुल गांधी के पीएम बनने के बारे में पूछा गया, तो उनका जवाब एक था आज कहो, आज पीछे हट जाता हूं, मतलब साफ है, वे केवल मास्‍क हैं।

राहुल गांधी की कलावती पटकथा हिट हुई तो युवा आइकन बन गए। कलावती के बाद राहुल गांधी की कोई पटकथा हिट नहीं हुई। उसका प्रभाव खत्‍म होने लगा। सोशल मीडिया ने उसको पप्‍पू करार दे दिया। राहुल गांधी ने जो कदम आज उठाया है, उस बच्‍चे की तरह, जो पेपरों से कुछ दिन पहले तैयारी करने बैठता है, नतीजा जो भी आए, अगर राहुल का मंत्र सफल हुआ तो शायद 2014 में अख़बारों की सुर्खियां यह शीर्षक बन सकता है ‘पप्‍पू पास हो गया”।

ईद के चांद की तरह नजर आने वाला राहुल गांधी शायद आम चांद की तरह नजर आए, और जो सोच वे कभी कभी जनता के सामने रखते हैं, वे प्रत्‍येक दिन रखे, हफ्ते, महीने में रखे तो स्‍थितियां बदल सकती हैं।

और वे गीत भी शायद कभी इतना रिलेवेंट न लगे, जो आज कहीं दूर से कानों में पड़ रहा है, जख्‍म फिल्‍म का पूजा भट्ट पर फिल्‍माया गया गीत ”तुम आये तो आया मुझे याद, गली में आज चाँद निकला जाने कितने दिनों के बाद, गली में आज चाँद निकला”

राजनाथ सिंह, नरेंद्र मोदी और भाजपा की स्‍थिति

''राह में उनसे मुलाकात हो गई, जिससे डरते थे वो ही बात हो गई''  विजय पथ फिल्‍म का यह गीत आज भाजपा नेताओं को रहकर का याद आ रहा होगा, खासकर उनको जो नरेंद्र मोदी का नाम सुनते ही मत्‍थे पर शिकन ले आते हैं।

देश से कोसों दूर जब न्‍यूयॉर्क में राजनाथ सिंह ने अपना मुंह खोला, तो उसकी आवाज भारतीय राजनीति के गलियारों तक अपनी गूंज का असर छोड़ गई। राजनाथ सिंह, भले ही देश से दूर बैठे हैं, लेकिन भारतीय मीडिया की निगाह उन पर बाज की तरह थी। बस इंतजार था, राजनाथ सिंह के कुछ कहने का, और जो राजनाथ सिंह ने कहा, वे यकीनन विजय पथ के गीत की लाइनों को पुन:जीवित कर देने वाला था।

दरअसल, जब राजनाथ सिंह से पीएम पद की उम्‍मीदवारी के संबंधी सवाल पूछा गया तो उनका उत्तर था, मैं पीएम पद की उम्‍मीदवारी वाली रेस से बाहर हूं। मैं पार्टी अध्‍यक्ष हूं, मेरी जिम्‍मेदारी केवल भाजपा को सत्ता में बिठाने की है, जो मैं पूरी निष्‍ठा के साथ निभाउंगा। यकीनन, नरेंद्र मोदी आज सर्वाधिक लोकप्रिय नेता हैं, अगर भाजपा सत्ता हासिल करती है तो वे पीएम पद के उम्‍मीदवार होंगे।

दूर देश में बैठे राजनाथ सिंह को इस बात का अंदाजा भी नहीं होगा, ऐसे कैसे हो सकता है कि उनके मुंह से निकले यह शब्‍द भारत में बैठे उनके कुछ मित्रों को अग्‍निबाण से भी ज्‍यादा नागवार गुजरेंगे। क्‍यूंकि भूल गए वे गोवा बैठक के बाद की उस हलचल को, जो एलके आडवाणी के इस्‍तीफे से पैदा हुई थी।

भारतीय मीडिया के बीच अक्‍सर इस बात संबंधी पूछे सवाल पर पार्टी बैठकर फैसला करेगी कह निकले वाले राजनाथ सिंह क्‍यूं भूल गए कि आज का मीडिया सालों पुराना नहीं, जो ख़बर को प्रकाशित करने के लिए किसी बस या डाक खाने से आने वाले तार का इंतजार करता रहेगा, आज तो आपने बयान दिया नहीं कि इधर छापकर पुराना, और चलकर घिस जाता है।

राजनाथ सिंह, ने पहले पत्ते दिल्‍ली की बजाय गोवा में खोले, शायद राजनाथ सिंह ने उनके लिए विकल्‍प खुला रखा था, जो इस फैसले से ज्‍यादा हताश होने वाले थे, क्‍यूंकि तनाव के वक्‍त खुली हवा में सांस लेना, टहलना, बीच के किनारे जाकर मौज मस्‍ती करना बेहतर रह सके।

अब वे न्‍यूयॉर्क पहुंचकर अपने पत्‍ते खोलते हैं, ताकि उनके भारत लौटने तक पूरा मामला किसी ठंडे बस्‍ते में पड़ जाए, और वे नरेंद्र मोदी को दिए हुए अपने वायदे पर कायम रह सकें। शायद अब तो सहयोगी पार्टियों को अहसास तो हो गया होगा कि नरेंद्र मोदी के अलावा भाजपा के पास 2014 के लिए कोई और विकल्‍प नहीं है।

अगर अब भी किसी को शक है तो वे अपना भ्रम बनाए रखे, क्‍यूंकि भ्रम का कोई इलाज नहीं होता, और अंत आप ठंडी सांस लेते हुए पानी की चंद घूंटों के साथ, कुर्सी पर पीठ लगाकर गहरी ध्‍यान अवस्‍था में जाकर, विजय पथ के उस गीत को आत्‍मसात करें, ''राह में उनसे मुलाकात हो गई, जिससे डरते थे वो ही बात हो गई''।

भाजपा का खेल, टेस्‍ट मैच के अंतिम दिन सा

क्रिकेट के मैदान पर अक्‍सर जब दो टीमें होती हैं, खेलती हैं तो यकीनन दोनों टीमें अपना बेहतर प्रदर्शन देने के लिए अपने स्‍तर पर हरसंभव कोशिश करती हैं, ताकि नतीजे उनकी तरफ पलट जाएं, लेकिन भारतीय राजनीति की पिच पर वैसा नजारा नहीं है। यहां तो केवल भारतीय जनता पार्टी, जो एनडीए की सबसे बड़ी और अगुवाईकर्ता पार्टी है, खेल रही है, पूरा ड्रामा रच रही है। अहम मुद्दों पर चर्चा कर पक्ष को हराने की बजाय उसका पूरा ध्‍यान मैच के अंदर खलन पैदा कर सुर्खियां बटोरना है, वे एक मजबूत विपक्ष की भूमिका निभाते हुए नजर नहीं आ रही, वे केवल एक राज्‍य के विकास के दम पर राजनीति ब्रांड बना चुके चेहरे के इस्‍तेमाल पर सत्ता हथियाना चाहती है। भाजपा का रवैया केवल उस टेस्‍ट टीम सा है, जो टेस्‍ट मैच के अंतिम दिन समय बर्बाद करने के लिए हर प्रकार का हथकंड़ा अपनाती है।

भाजपा ने पहला ड्रामा रचा। जब राष्‍ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक गोवा में होनी थी। कुछ नेताओं ने वहां जाने से इंकार कर दिया, तो कुछ ने अनचाहे मन से वहां जाना बेहतर समझा। ख़बरों में थी भाजपा, और विरोधी टीम के इक्‍का दुक्‍का बयानबाज नेता। इस बैठक के साथ भाजपा को मीडिया सामान्‍य भाव से लेता कि एलके आडवाणी ने इस्‍तीफे का पैंतरा चल दिया। मीडिया के अगले कुछ दिन और उसकी भेंट चढ़ गए। अंत होते होते एलके आडवाणी अपने फैसले से पलटे, किसी टीवी सीरियल के किरदार की तरह।

नरेंद्र मोदी की एलके आडवाणी से दूरियां, करीबियां चर्चा में बनीं रही। इस दौरान किसी बेहतर प्रदर्शन कर रहे गेंदबाज की तरह नरेंद्र मोदी मीडिया में स्‍पेस बनाते चले गए। कहते हैं कि जब वक्‍त अच्‍छा हो तो दूसरों की गलतियां भी आपके उभार के लिए कारगार सिद्ध होती हैं, खास नरेंद्र मोदी के मामले में कुछ ऐसा ही हुआ है। वे एक अच्‍छे मुख्‍यमंत्री हैं, कोई शक नहीं, लेकिन क्‍या कांग्रेस के पास ऐसे मुख्‍यमंत्री नहीं, बिल्कुल हैं, लेकिन उसके पास मीडिया में हौवा पैदा करने वाले नेता नहीं।

उसके नेता मीडिया में आने से डरते हैं, जो आते हैं, उनकी बोल चाल इतनी खराब है कि उनके मुंह से निकले बोल भाजपा को कम कांग्रेस को ज्‍यादा नुकसान पहुंचाते हैं। लादेन जी, आपदा पर्यटन या मौत का सौदागर जैसे शब्‍द भाजपा की नहीं, बल्‍कि कांग्रेसी नेताओं की देन हैं, जो सोशल मीडिया में कांग्रेस की खिल्‍ली उड़ाने के लिए काफी हैं।

वहीं, मीडिया नरेंद्र मोदी के बयानों पर ध्‍यान देने की बजाय उनके मुंह से निकले शब्‍दों के पीछे की सोच को पकड़ने की कोशिश करता है, जो ख़बर की शकल ले लेते हैं। बुर्के की जगह नरेंद्र मोदी शायद घुंघट भी कह सकते थे, लेकिन नहीं, उन्‍होंने बुर्का कहा, बुर्का उस समुदाय से जुड़ा है, जिसका नरेंद्र मोदी को सबसे कट्टर माना जाता है, भले ही नहीं, मोदी कहते हों कि वे देश को एक साथ आगे बढ़ते हुए देखना चाहते हैं।

पिछले कई महीनों से चल रहे ड्रामे के आज वाले एपिसोड में नरेंद्र मोदी को 19 टीमें और मिल गई, हालांकि भाजपा इस की घोषणा बीते हुए कल में कर सकती थी, लेकिन उसने धारावाहिक की तरह, अपने फैसले पर रहस्‍य बनाए रखा, ताकि कांग्रेस के खाते से एक दिन हो छीन लिया जाए। कुल मिलाकर भाजपा टेस्‍ट मैच के अंतिम दिन वाली गेम खेल रही है, कैसे भी रहता वक्‍त गुजर जाए, और मैच उनके खाते में पहुंच जाए।

मैन ऑफ द वीक नरेंद्र मोदी

खुदी को कर बुलंद इतना की खुदा बन्दे से ये पूछे की बता तेरी रजा क्या है, शायद कुछ इसी राह पर चल रहे हैं गुजरात के मुख्‍यमंत्री नरेंद्र मोदी। वक्‍त भी कदम दर कदम उनका साथ दे रहा है, उनकी तरफ विरोधियों द्वारा फेंका गया पासा भी उनके लिए वरदान साबित होता है।

इस महीने की शुरूआत से नमो या कहूं नरेंद्र मोदी सुर्खियों में हैं, क्‍यूंकि कर्नाटका में भाजपा की हार के बाद लोगों की निगाह टिकी थी कि गुजरात में नमो मंत्र का क्‍या हश्र होगा, 2 तारीख को चुनाव हुए, नमो बेफिक्र थे, मानो उनको पता हो कि नतीजे मेरे पक्ष में हैं।

नमो पर वक्‍त मेहरबान तो उस समय हुआ, जब भाजपा के सीनियर नेता व वेटिंग इन पीएम लालकृष्‍ण आडवानी मध्‍यप्रदेश के ग्‍वालियर पहुंचे, और उन्‍होंने गंगा गए गंगाराम, जमुना गए जमुना राम, की कहावत को चरितार्थ करते हुए कह दिया, गुजरात से अच्‍छे तो मध्‍यप्रदेश और छतीसगढ़ हैं, क्‍यूंकि इनकी हालत बेहद खराब थी, जब भाजपा सत्‍ता में आई, हैरानी की बात तो यह है कि सीनियर नेता अपना लोक सभा का चुनाव निरंतर डेढ़ दशक से गुजरात की राजधानी गांधीनगर से लड़ते आ रहे हैं।

वेटिंग इन पीएम की वाणी ने राजनीति में हलचल पैदा कर दी और भाजपा नेताओं को नरेंद्र मोदी का समर्थन करते हुए पाया गया, नमो के लिए इससे अच्‍छा क्‍या था कि वे बिना कुछ कहे, चर्चा में आए, उनको पार्टी का भी समर्थन मिल गया।

इसके बाद 5 तारीख आई, जिसका नरेंद मोदी से ज्‍यादा विरोधियों को इंतजार था, क्‍यूंकि उन्‍हें उम्‍मीद थी कि इस बार नरेंद्र मोदी को जमीन पर पटकने का एक अच्‍छा मौका मिलेगा, अफसोस कि नमो मंत्र ने काम किया, गुजरात में दो लोकसभा सीटों समेत छह सीटों पर भाजपा कब्‍जा करने में सफल हुई, इतना ही नहीं, नीतीश कुमार को मिली हार के पीछे उनकी नमो के प्रति दिखाई बेरुखी को ठहराया गया।

इत्‍तेफाक देखिए, जिस दिन नतीजे आने थे, उसी दिन आंतरिक सुरक्षा मामले में मुख्‍यमंत्रियों की बैठक का आयोजन नई दिल्‍ली में किया गया। इस बैठक में बिहार मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार पहले से मौजूद थे, लेकिन नमो उनके बाद पहुंचे, नमो ने उनको देखना तक गवारा न समझा, नमो को नीतीश को खासकर उस समय नजरअंदाज करना खटकता है, जब वे नरेंद्र मोदी के प्रिय और छत्तीसगढ़ के मुख्‍यमंत्री रमन सिंह से बातचीत कर रहे थे।

इस दौरान नमो टेलीविजन की स्‍क्रीन पर कब्‍जा जमाने में कामयाब हुए, क्‍यूंकि गुजरात में हुए उपचुनावों नतीजे आ चुके थे। बिहार में नीतीश बुरी तरह पिट चुके थे, और इतना ही नहीं, मीटिंग में भी नमो के भाषण पर सबकी निगाह थी, हर बार की तरह नमो यहां पर केंद्र को पटकनी देते हुए नजर आए।

ये कारवां यहां कहां रुकने वाला था, नरेंद्र मोदी ने गुजरात की जीत का जश्‍न दिल्‍ली में मनाना बेहतर समझा। वे पार्टी अध्‍यक्ष राजनाथ सिंह से मिले, जिनका नरेंद्र मोदी को पूरा पूरा समर्थन है, फिर मिले लालकृष्‍ण आडवानी से, सारे गिले शिकवे एक किनारे कर, मिलते भी क्‍यूं न अटल और आडवानी की छात्रछाया में तो नमो ने राजनीति के गुरमंत्र सीखे। वे बात जुदा है कि आडवानी का सर्गिद आज उससे कहीं ज्‍यादा लोकप्रिय है।

फिर समुद्री किनारे ठंडे मौसम में मंथन के लिए पार्टी ने प्रोग्राम बनाया, तो पब्‍लिक डिमांड आई कि नमो भी इसमें शिरकत करें, जनता की मांग को भाजपा कैसे ठुकरा सकती थी, मोदी के जाने की ख़बर सुनते समारोह में कांग्रसी, वामपंथी तो किनारा करते सुने थे, लेकिन पहला मौका था कि भाजपा के कई नेताओं ने इस अहम मीटिंग से  किनारा कर लिया, राजनीति को और गर्मा दिया, नतीजा चर्चा में रहे नरेंद्र मोदी।

कहते हैं कि गोवा में आयोजित होने वाले एक अन्‍य प्रोग्राम के लिए भी नरेंद्र मोदी को आमंत्रित किया गया था, लेकिन नरेंद्र मोदी से पहले गोया में उनका संदेश पहुंच गया था। गोया के रोमानियत भरे मौसम में भाजपा किसी नतीजे पर पहुंचे या न, लेकिन नमो के लिए दिल्‍ली में मैराथन का आयोजन किया जा रहा है। इससे पहले उनके लिए रॉक कंसर्ट का आयोजन किया गया था।

आज शनिवार, आठ तारीख। 2 से 8 जून तक कई बड़ी ख़बरें आई, लेकिन नमो मंत्र, कांग्रेस की माने तो नमो वायरस को टेलीविजन स्‍क्रीन से हटा नहीं पाई, वैसे कहते हैं कि सिनेमा हाल से हर शुक्रवार, और टीवी स्‍क्रीन से हर घंटे एक ख़बर लापता हो जाती है, लेकिन नमो पूरा हफ्ता टीवी स्‍क्रीन पर बने रहे, चाहे इस दौरान जिया ख़ान आई, चाहे आईपीएल में सट्टेबाजी, चाहे कोई अन्‍य मामला, लेकिन शाम तक टेलीविजन स्‍क्रीन पर नमो लौट आते, सुबह का भूला शाम को लौट आए, तो उसको भूला नहीं कहते। आप कुछ भी कहें, लेकिन हम नरेंद्र मोदी को मैन ऑफ द वीक कहते हैं।

तोगड़िया ने कुछ गलत तो नहीं कहा

विश्व हिंदू परिषद (वीएचपी) के अंतर्राष्‍ट्रीय प्रमुख डॉक्टर प्रवीण तोगड़िया ने कहा, ''जो लोग नरेंद्र मोदी को प्रधानमंत्री पद का दावेदार बता रहे हैं, वे बुनियादी रूप से एनडीए और बीजेपी को तोड़ने की रणनीति पर काम कर रहे हैं''।

अगर विहिप के नेता की बात मान भी ली जाए तो इसमें बुरा भी कुछ नहीं। अगर देश की जनता नरेंद्र मोदी के रूप में भाजपा को बहुमत दे देती है तो इसके देश के लिए बेहद अच्‍छी बात है, जब तक इसको बहुमत सरकार नहीं मिलेगी, तब तक इस देश का भला होना मुश्किल है, वो बहुमत चाहे कांग्रेस को मिले चाहे फिर बीजेपी को, बहुमत देश के हित में है।

भाजपा अपनी तैयारी कर चुकी है नितिन गड़करी को महाराष्‍ट्र भेज राजनाथ सिंह को अध्‍यक्ष बनाकर। अपने पुराने साथी कल्‍याण सिंह को एक बार फिर अपने साथ खींच लाई। नरेंद्र मोदी अपने शपथ समारोह में जयललिता से लेकर प्रकाश सिंह बादल को बुलाकर अपनी आगे की योजना को सबके सामने रख चुके हैं। वाइब्रेंट गुजरात 2013 के जरिए अपना शक्‍ति प्रदर्शन ही नहीं, बल्‍कि उसमें छत्‍तीसगढ़ के मुख्‍यमंत्री रमन सिंह की उपलब्‍धियों भरी स्‍पेशल प्रदर्शनी कर अपने साथ ला खड़ा किया।

उम्‍मीद है कि भाजपा फरवरी में नरेंद्र मोदी को चुनाव समिति का अध्‍यक्ष बनाएगी। अगर ऐसा होता है तो इसको हम नरेंद्र मोदी की अग्‍निपरीक्षा मान सकते हैं। मगर जिस तरह की स्‍थिति इन दिनों में देश के अंदर बनी हुई है, उसको नजर अंदाज करना मुश्‍किल है। देश पिछले कई सालों से एक तानाशाह की तलाश में है, जो लोकतंत्र में विश्‍वास करता है, ऐसा एक ही व्‍यक्‍ति है, वो नरेंद्र मोदी।

सुन सनकर तंग आए ''देश का अगला...........?"

कांग्रेस, हम ने कल लोक सभा में एफडीआई बिल पारित करवा दिया। अब हम गुजरात में भी अपनी जीत का परचम लहराएंगे। मीडिया कर्मी ने बीच में बात काटते हुए पूछा, अगला प्रधानमंत्री कौन होगा, अगर मध्‍याविधि चुनाव हों तो।  अगर देश का प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की तरह जनता से बातचीत नहीं करेगा तो, मीडिया तो ऐसे सवाल पूछता ही रहेगा।

                                          नोट  पेंट की एड का पॉलिटिकल वर्जन

देश के लोकतंत्र में शायद पहली बार हो रहा है कि बात बात पर एक सवाल उभरकर सामने आ जाता है ''देश का अगला प्रधान मंत्री कौन होगा ?'' यह बात तब हैरानीजनक और कांग्रेस के लिए शर्मजनक लगती है जब चुनावों में एक लम्‍बा समय पड़ा हो, और बार बार वो ही सवाल पूछा जाए कि ''देश का अगला प्रधान मंत्री कौन होगा ?'' जब इस मामले से जोर पकड़ा था तो देश के प्रधान मंत्री मनमोहन सिंह ने कहा था, ''कांग्रेस जब भी कहे, मैं राहुल गांधी के लिए खुशी खुशी कुर्सी छोड़ने को तैयार हूं, मैं जब तक इस पद पर हूं, अपना दायित्‍व निभाता रहूंगा''।

देश के प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह भले देश की स्‍थिति से अनजान हों, मगर कांग्रेस की स्‍थिति से अच्‍छी तरह अवगत हैं, कांग्रेस की स्‍थिति चीन जैसी है, जो अंदर ही अंदर कई टुकड़ों में बांटा हुआ है, लेकिन बाहर से एक संगठित राष्‍ट्र। राहुल गांधी को कुछ मक्‍खनबाज नेता प्रधानमंत्री के रूप में देखना चाहते हैं, खासकर दिग्‍गविजय सिंह। पीएम बनना तो सोनिया भी चाहती थी, लेकिन रास्‍ते में एक पहाड़ आता है, जिसका नाम सुब्रह्मण्यम स्वामी, जिसको फांदकर पीएम की कुर्सी तक जान राहुल गांधी एवं सोनिया के लिए आसान नहीं, और दूसरी बात, जो मंत्री पद की जिम्‍मेदारी लेने से डरता है, वो देश के महत्‍वपूर्ण पद की जिम्‍मेदारी कैसे उठाएगा ?

देश का अगला प्रधान मंत्री कौन होगा ? सवाल को सुनते सुनते मनमोहन सिंह अपना दूसरा कार्यकाल पूरा कर जाएंगे, लेकिन यह बेहद शर्मनाक हादसा होगा, जब देश में निरंतर चल रही सरकार से एक ही सवाल बार बार पूछा जा रहा हो कि देश का अगला प्रधान मंत्री कौन होगा ?। कांग्रेस ने तो अपना पल्‍लू यह कहते हुए झाड़ लिया कि उनके रीति नहीं पीएम पद का उम्‍मीदवार घोषित करना, लेकिन विदेशी पत्रिका इकोनोमिस्‍ट ने कांग्रेस की ओर से अगले प्रधानमंत्री पद के दावेदार के रूप में पी चिदंबरम को देखने का साहस किया है। इस पद के दूसरे मजबूत दावेदार कांग्रेस की ओर से राष्‍ट्रपति पद तक पहुंच चुके हैं।

उधर, भारतीय जनता पार्टी जो कल तक नरेंद्र मोदी के नाम को नकार रही थी, वो आज उसको प्रधान मंत्री पद का उम्‍मीदवार मानने से इंकार नहीं कर रही, क्‍यूंकि भाजपा अब विपक्ष में बैठकर ऊब चुकी है, वो नहीं चाहती कि अगले कुछ साल फिर विपक्ष में बैठना पड़े। सुषमा स्‍वराज ने कहा है कि भाजपा के पास पीएम के बहुत सारे उम्‍मीदवार हैं, लेकिन यह भाजपा की कमजोरी नहीं, शक्‍ति है, जिस तरह सुषमा स्‍वराज ने लोक सभा में अपने भाषणों से भारतीय जनता पार्टी को आम जनता तक पहुंचाया, वो भाजपा के लिए काफी कारगार सिद्ध हो सकता है।

चलते चलते - मनमोहन सिंह को नैतिक तौर पर अपने पद से इस्‍तीफा दे देना चाहिए, क्‍यूंकि देश की जनता एक सवाल को सुन सुन कर तंग आ गई, भले ही वो नहीं आए या फिर एक दमदार पीएम की भूमिका निभाएं, किसी परिवार सेवक की नहीं।

राजनीति में ''एफडीआई''

भारतीय राजनीति किस तरह गंदगी हो चुकी है। इसका तारोताजा उदाहरण कल उस समय देखने को मिला, जब एफडीआई का विरोध कर रही बसपा एवं सपा, ने अचानक वोटिंग के वक्‍त बॉयकॉट कर दिया, और सरकार को एफडीआई पारित करने का मौका दे दिया, जिसे सत्‍ता अपनी जीत और विपक्ष अपनी नैतिक जीत मानता है, हैरानी की बात है कि यह पहला फिक्‍सिंग मैच है, जहां कोई खुद को पराजित नहीं मान रहा।

राजनीतिज्ञों का मानना है कि एफडीआई के आने से गुणवत्‍ता वाले उत्‍पाद मिलने की ज्‍यादा संभावना है। अगर विदेशी कंपनियों की कार्यप्रणाली पर हमें इतना भरोसा है तो क्‍यूं न हम राजनीति में भी एफडीआई व्‍यवस्‍था लाएं। वैसे भी सोनिया गांधी देश में इसका आगाज तो कर चुकी हैं, भले ही वो शादी कर इस देश में प्रवेश कर पाई। मगर हैं तो विदेशी।

अगर राजनीति में एफडीआई की व्‍यवस्‍था हो जाए, तो शायद हमारे देश के पास मनमोहन सिंह से भी बढ़िया प्रधान मंत्री आ जाए, राजनीति दलों को चलाने वाला उत्‍तम उत्‍पाद मतलब कोई पुरुष या महिला आ जाए। अगर राजनीति में एफडीआई का बंदोबस्‍त हो जाता है तो ऐसे में पूर्ण संभावना है कि पाकिस्‍तान के आसिफ जरदारी भी भारत में अपना विस्‍तार करना चाहेंगे, क्‍यूंकि उनके पास ''दस प्रतिशत कमिशन'' का बेहतरीन टैग है।

बसपा एवं सपा कह रही है कि उन्‍होंने बॉयकॉट कर के बहुत बड़ा कदम उठाया है जनता हित में, लेकिन उनकी गैर हाजिरी ने सत्‍ता पक्ष को मजबूत किया, जो मैच फिक्‍सिंग की निशानी है। अगर विरोध करना था तो वोटिंग के जरिए  क्‍यूं नहीं किया। सुनने में तो यह भी आया है कि कांग्रेस ने महाराष्‍ट्र में बाबा साहेब अम्‍बेडकर की स्‍मारक को हरी झंडी इसलिए दिखाई, क्‍यूंकि बसपा ने अंदर खाते कांग्रेस का समर्थन किया।

अगर यूं मैच फिक्‍सिंग कर लोक सभा में बिल पारित करने हैं, तो टीवी पर लाइव प्रसारण कर देश की जनता को उल्‍लू बनाना बंद किया जाए। आज से कुछ साल बाद कोई नेता किताब लिखेगा, उसमें इस मैच फिक्‍सिंग का खुलासा होगा, तब तक जनता इस मैच फिक्‍सिंग के केवल कयास लगाती रहेगी।

अमेरिका ने क्‍यूं कहा, ''आओ नरेंद्र मोदी''

नरेंद्र मोदी के लिए बेहद गर्व की बात है कि अमेरिका ने उनको वीजा आवेदन पत्र दाखिल करने की अनुमति दे दी है, जो कि 2002 गुजरात दंगों के बाद से प्रतिबंधित थी। अमेरिका का नरेंद्र मोदी के प्रति नरम होना, नरेंद्र मोदी एवं भाजपा के लिए सुखद है, वहीं कांग्रेस के लिए बेहद दुखद। इसको भाजपा सत्‍य की जीत कहेगी। अमेरिका ने ऐसे ही नरेंद्र मोदी के लिए अमेरिका के प्रवेश द्वार नहीं खोले, अमेरिका में चुनावी माहौल है, वहां पर बहुत सारे हिन्‍दुस्‍तानी बसते हैं, जो सोशल मीडिया पर नरेंद्र मोदी की वाह वाही से प्रभावित हैं, और उसके दीवाने हैं।

क्‍यूं का दूसरा अहम कारण, नरेंद्र मोदी का निरंतर बढ़ता राजनैतिक कद। अमेरिका को आज से दस साल पूर्व यह आभास न था कि नरेंद्र मोदी एक दिन इतना बड़ा ब्रांड बन जाएगा, जो उसके फैसलों को बदलने की क्षमता रखता हो। आज नरेंद्र मोदी भारत में सबसे ज्‍यादा चर्चा का विषय। देश में इस बात की चर्चा नहीं कि भाजपा केंद्र में आए, चर्चा तो इस बात की चल रही है कि नरेंद्र मोदी होंगे अगले प्रधान मंत्री। एक नेता जब पार्टी से ऊपर अपनी पहचान बना ले, तो किसी को भी रुक का सोचना पड़ सकता है, अमेरिका तो फिर भी अवसरवादी कौम है।

पिछले दस सालों में मोदी ने गुजरात को नक्‍शे पर लाने के लिए प्रयत्‍न किए, लेकिन गुजरात के विकास ने नरेंद्र मोदी को ब्रांड बना दिया। गुजरात में भाजपा वर्सेस कांग्रेस नहीं, बल्‍कि कांग्रेस वर्सेस नरेंद्र मोदी है। नरेंद्र मोदी ने गुजरात में अपना प्रभुत्‍व बनाए रखा है। अपने व्‍यक्‍ितत्‍व का विकास किया, इससे गुजरात का वास्‍तविकता में विकास हुआ या नहीं, यह लम्‍बी चर्चा का विषय है। अगर लोग कहते हैं कि गुजरात में उतना विकास नहीं हुआ, जितना होना चाहिए था, तो एक सवाल यह भी पैदा होता है कि देश को आजाद हुए सात दशक हो चले, भारत में कितना विकास हुआ है।

गुजरात के विकास में कुछ तो असलियत होगी, जो नरेंद्र मोदी पर ब्रिटेन का रुख बदला। दस साल का बॉयकाट खत्‍म कर ब्रिटेन मोदी से हाथ मिलाने लगा। भाजपा की मीटिंगों में चर्चा होती है तो बात सामने निकल कर आती है कि अगर मोदी को पीएम उम्‍मीदवार के लिए प्रोजेक्‍ट करते हैं तो दूसरे सारे मुद्दे गौण हो जाएंगे। न चाहते हुए भी भाजपा को नरेंद्र मोदी को प्रोमोट करना पड़ सकता है, क्‍यूंकि अब भाजपा के नेता विपक्ष में बैठ बैठ उब गए हैं। नरेंद्र मोदी तो फिर भी सत्ता सम्‍हाले हुए है, चाहे एक राज्‍य की ही क्‍यूं न हो।

अगर भाजपा के आशावादी नेता चाहते हैं कि भाजपा सत्ता में आए तो नरेंद्र मोदी को पीएम उम्‍मीदवार प्रोजेक्‍ट करना पड़ेगा, क्‍यूंकि वक्‍त मोदी का साथ दे रहा है, और वक्‍त से बलवान कोई नहीं। वैसे भी दुनिया अवसरवादियों से भरी पड़ी है। अमेरिका भी तो अवसरवादी है, वरना दस साल पहले लगाए नरेंद्र मोदी के प्रतिबंध को पीछे नहीं हटाता।