Posts

Showing posts with the label जैन मुनि तरूण सागरजी

जीवन खत्‍म हुआ तो जीने का ढंग आया

जीवन खत्‍म हुआ तो जीने का ढंग आया  शमा बुझ गई जब महफिल में रंग आया,मन की मशीनरी ने सब ठीक चलना सीखा, बूढ़े तन के हरेक पुर्जे में जंग आया, फुर्सत के वक्‍त में न सिमरन का वक्‍त निकाला, उस वक्‍त वक्‍त मांगा जब वक्‍त तंग आया, जीवन खत्‍म हुआ तो जीने का ढंग आया। जैन मुनि तरूणसागर जी की किताब से