Posts

Showing posts with the label जिन्हें फिक्र है देश की

Inspirational Story : असम की डॉ.संयुक्‍ता पराशर का 'पेशन'

Image
जेएनयू की छात्रा रही डॉ.संयुक्‍ता पराशर, जो कि असम की पहली आईपीएस महिला अधिकारी हैं, जिनके पास आईएएस बनने का मौका था, लेकिन उसने खाकी पहनना अधिक बेहतर समझा, क्‍यूंकि उन्‍हें लगता है कि पीड़ित को खाकी वाले सादी यूनिफॉर्म से ज्‍यादा मददगार साबित हो सकते हैं। असम सेहत सर्विस में कार्यरत मीना देवी और सिंचाई विभाग में बतौर इंजीनियर दुलाल चंद्रा बरुआ के घर जन्‍मीं डॉ. संयुक्‍ता ने शुरूआती पढ़ाई गुवाहटी से की। खेल कूद व अन्‍य गतिविधियों में भाग लेने वाली संयुक्‍ता ने स्नातक स्तर की पढ़ाई नई दिल्ली के इंद्रप्रस्थ कॉलेज से की। शुरूआती दौर में, उसको कम अंक होने के कारण छात्रावास में रहने की अनुमति नहीं मिली, हालांकि उसके बाद उसने अच्‍छे अंक प्राप्‍त किए, और उसको छात्रावास में रहने की अनुमति मिल गई।  इसके बाद उसने जेएनयू ज्‍वॉइन किया, और अपनी मास्‍टर डिग्री, जोकि अंतरराष्‍ट्रीय रिश्‍तों पर थी, को पूरा किया। 
जब संयुक्‍ता ने यूपीएससी के इम्‍तिहानों की तैयारी शुरू की तो उसके पास पढ़ाई के लिए पांच घंटों से अधिक का समय नहीं था। वे एक संस्‍था ऑब्‍जर्वर रिसर्च फाउंडेशन के लिए काम भी कर रहीं थी। जब उनक…

मलाला को 'राष्‍ट्र की बेटी' खिताब से सम्‍मानित करने की मांग

Image
-:वाइआरएन सर्विस:-
9 अक्तूबर 2012 को उत्तर-पश्चिमी पाकिस्तान के स्वात घाटी के मिंगोरा गांव में तालिबानी चरमपंथियों की गोली का निशाना बनी मलाला युसुफ़ज़ई को पाकिस्तान की राष्ट्रीय असेंबली ने सर्वसम्मति से एक प्रस्ताव पारित कर 'पाकिस्तान की बेटी' के सम्मान से नवाज़े जाने की मांग की है।

इससे पूर्व पाकिस्‍तान राष्‍ट्रपति आसिफ अली जरदारी ब्रिटेन के अस्पताल में उपचाराधीन मलाला से मुलाकात की। इसके साथ ही उन्‍होंने लड़कियों की शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए मलाला एजुकेशन फंड स्‍थापित करने की घोषणा की। इसके अलावा उधर लंडन में ब्रिटिश लेबर पार्टी के सांसद खालिद महमूद ने सरकार से अपील की है कि नॉबेल पुरस्‍कार के लिए मलाला को नामांकित किया जाए। नॉबेल पुरस्‍कार हेतु चलाए गए हस्‍ताक्षर मिशन के दौरान करीबन तीन लाख लोगों ने हस्‍ताक्षर किए।

इधर, पाकिस्‍तान असेंबली में मलाला को राष्‍ट्र पुत्री का सम्‍मान देने हेतु प्रस्ताव पाकिस्तान पीपल्स पार्टी की सदस्य रोबिना सादत क़ैमख़ानी द्वारा प्रस्तुत किया गया है।

गौरतलब है कि तालिबान चरमपंथियों द्वारा किए गए हमले में मलाला के सिर और गले में गोलियां लगी …