Showing posts with label कुलवंत हैपी. Show all posts
Showing posts with label कुलवंत हैपी. Show all posts

कैसे कमाएं नेट यूजर्स पैसा


पिछले दिनों एक ब्‍लॉगर दोस्त ने पैसालाइव डॉट कॉम का लिंक भेजा, और लिखा हुआ था प्रत्येक माह कमाएं नौ हजार से ज्यादा रुपए, पहले पहल तो यकीन नहीं आया, लेकिन पूरी पॉलिसी पढ़ने के बाद समझा में आया कि असली बात क्‍या है। पैसा लाइव डॉट कॉम पर जैसे ही आप खाता बनाते हैं तो आपके खाते में 99 रुपए उसकी वक्‍त आ जाते हैं, उसके बाद जैसे ही आपके द्वारा भेजा इन्वीटेंशन पहले दो व्यक्ति अस्‍पेट करते हैं तो आपको मिलते हैं सौ रुपए। उसके बाद हर प्रत्येक इन्वीटेशन अस्पेट होने पर आपको मिलेंगे दो रुपए। इस खाते में आपके पास आएं की कुछ पेड ईमेल्स, जिनको क्‍लिक करने पर 25 पैसे मिलेंगे। आपका ड्राफट 500 रुपए होने के बाद तैयार हो जाएगा। खाता बनाने के लिए यहां क्‍लिक करें

ओबामामय हुआ अमेरिका

बेशक ये शीर्षक केवल अमेरिका के ओबामामय होने की बात कर रहा हो, लेकिन हकीकत तो ये है कि ब्लॉग से लेकर न्यूज पोर्टल एवं प्रिंट मीडिया से लेकर इलैक्ट्रोनिक मीडिया तक ओबामा छाए हुए हैं. ओबामा अमेरिकावासियों के लिए उम्मीद की एक किरन नहीं बल्कि उम्मीद का सूर्य है. अमेरिकावासियों के अलावा भी बड़े बड़े राजनीतिक विशेषज्ञों का भी ये मानना है कि ओबामा रूपी सूर्य की रोशनी से अमेरिका एक बार फिर से चमक उठेगा. वहीं कुछ लोग इस को ओबामा के लिए कांटों भरा ताज भी मान रहे हैं क्योंकि ओबामा के आगे बहुत गंभीर चुनौतियां हैं, जिन पर पार पाने का मादा उनमें है कि नहीं ये तो आने वाले साल ही बताएंगे, फिलहाल तो अमेरिका वासी खुशी से इस तरह लबालब हैं जैसे उनको आजादी मिल गई हो या फिर किसी नए अवतार ने इस धरती पर जन्म ले लिया हो.वैसे भी ओबामा को किसी अवतार से कम नहीं आंका जा रहा. अब देखना तो ये दिलचस्प होगा कि विश्वशक्ति की हॉट सीट पर बैठने वाला ओबामा चुनौतियों पर विजय कैसे पाता है.

ओबामा के लिए चुनौतियों
अमेरिका को मंदी की मार से उभरना, इराक से अमेरिकी सैना की वापसी, अफगानिस्तान में शांति लाना, आतंकवाद के विरुद्ध जंग, इसराइल व फिलीस्तानी के मुद्दे को सुलझाना, रूस अमेरिका के रिश्तों में कड़वाहट को खत्म करना, उत्तर कोरिया के प्रति अपने रुख में सुधार, विश्व में अमेरिका की भूमिका में बदलाव लाना, चीन से अच्छे संबंध बरकरार रख पाना आदि॥

अमेरिकावासियों का विश्वास
टाइम्स सीबीएस न्यूज सर्वेक्षण के अनुसार ज्यादातर अमेरिकियों को यकीन है कि ओबामा एक अच्छे राष्ट्रपति साबित होंगे वह अमेरिका में वास्तविक परिवर्तन लाएंगे और वह अर्थव्यवस्था और इराक पर सही फैसले करेंगे और देश को आतंकवादी हमलों से बचाएंगे। परिणामों के अनुसार सर्वेक्षण में हिस्सा लेने वाले 70 प्रतिशत अमेरिकियों ने कहा कि ओबामा ने अपने मंत्रिमंडल के लिए जो चयन किए हैं वे उन्हें मंजूर करते हैं.

ओबामा की तेजतर्रार टीम
दुनियाभर में छाए आर्थिक संकट और बड़े पैमाने पर जारी दो युद्धों के बीच सुपर पावर अमेरिका की कमान संभालने जा रहे बराक ओबामा की टीम पहले ही दिन अपना कामकाज संभाल लेगी और त्वरित आधार पर एजेंडे को लागू करने की दिशा में काम किया जाएगा। ओबामा के अमेरिका के 44वें राष्ट्रपति के रूप में शपथ ग्रहण करने के तुरंत बाद उनके महत्वपूर्ण सहयोगियों की एक टीम प्रशासन के एजेंडे को तेजी से शुरू करने के लिए सीधे व्हाइट हाउस रवाना हो जाएगी, हालांकि बाकी समारोह पूर्ववर्त जारी रहेगा। इसके अलावा 21 जनवरी को राष्ट्रपति ओबामा के कार्यकाल का पहला पूर्ण दिन होगा और उसी दिन ओबामा ने पहले से ही अपने दो प्रमुख चुनौतीपूर्ण मुद्दों पर बैठक बुलायी हुई है। इनमें आर्थिक तथा विदेश नीति खासतौर से इराक और अफगानिस्तान के युद्ध शामिल हैं।

खेल हस्तियां भी उत्सुक :टाइगर वुड्स से लेकर मुहम्मद अली डेव विनफील्ड से लेकर दिकेंबे मुटोम्बो जैसे खेलों की दुनिया के कई दिग्गज हैं जो अमेरिकी के पहले अश्वेत राष्ट्रपति बराक ओबामा के शपथ ग्रहण समारोह का हिस्सा बनना चाहते हैं। जार्जटाउन में पहली बार श्वेतों के दबदबे वाली टीम उतारने पर नस्ली टिप्पणियों का सामना करने वाले हाल आफ फेम में शामिल दिग्गज कोच जान थाम्पसन के पास शपथ ग्रहण समारोह का टिकट है। दुनिया के नंबर एक गोल्फर टाईगर वुड्स भी ओबामा को लेकर बेहद उत्सुक हैं।

व्हाइट हाउस की तैयारीअमेरिका में भावी राष्ट्रपति के लिए व्हाइट हाउस के तैयार होने में आमतौर पर करीब छह महीने का समय लगता है लेकिन इस बार यह काम रिकार्ड छह घंटों के भीतर पूरा हो जएगा। ओबामा परिवार के लिए लगभग 100 कर्मचारी राष्ट्रपति के आधिकारिक निवास में फर्नीचर कपड़े भोजन से लेकर कारपेट आदि सामानों को सुगमता से बदल देंगे. व्हाइट हाउस में इस काम को 93 कर्मचारी आज पूर्वाह्न 11 बजे से शुरू करेंगे और शाम पांच बजे तक अंजाम दे देंगे.

छोटे आसमां पर बड़े सितारे


शाहरुख खान छोटे पर्दे से बड़े पर्दे पर जाकर बालीवुड का किंग बन गया एवं राजीव खंडेलवाल आपनी अगली फिल्म 'आमिर' से बड़े पर्दे पर कदम रखने जा रहा है, मगर वहीं लगता है कि बड़े पर्दे के सफल सितारे अब छोटे पर्दे पर धाक जमाने की ठान चुके हैं। इस बात का अंदाजा तो शाहरुख खान की छोटे पर्दे पर वापसी से ही लगाया जा सकता था, मगर अब तो सलमान खान एवं ऋतिक रोशन भी छोटे पर्दे पर दस्तक देने जा रहे हैं. इतना ही नहीं पुराने समय के भी हिट स्टार छोटे पर्दे पर जलवे दिखा रहे हैं, जिनमें शत्रुघन सिन्हा एवं विनोद खन्ना प्रमुख है. बालीवुड के सितारों का छोटे पर्दे की तरफ रुख करने के दो बड़े कारण हैं, एक तो मोटी राशी एवं दूसरा अधिक दर्शक मिल रहे हैं. इन सितारों के अलावा अक्षय कुमार, अजय देवगन, गोविंदा भी छोटे पर्दे के मोह से बच नहीं सके. अभिनेताओं की छोड़े अभिनेत्रियां भी कहां कम हैं उर्मिला मातोंडकर एवं काजोल भी छोटे पर्दे पर नजर आ रही हैं.

छोटे पर्दे पर भी आना बुरी बात नहीं लेकिन जब आप बड़े पर्दे पर सफलता की शिखर पर बैठे हों तो छोटे पर्दे की तरफ रुख करना ठीक नहीं, इस सबूत तो शाहरुख खान को मिल गया, उसके नए टीवी शो 'पांचवीं पास॥' की टीआरपी इतनी कम है कि शाहरुख को अपनी लोकप्रियता पर शक होने लगा है। शाहरुख ने छोटे पर्दे पर वापसी अमिताभ बचन के नकशे कदम पर चलते हुए की थी, मगर स्थिति बिल्कुल विपरीत थी, अमिताभ को तो मजबूरी में छोटे पर्दे का सहारा लेना पड़ा, मगर शाहरुख खान ने सफलता की शिखर पर बैठे हुए छोटे पर्दे पर वापसी की. अमिताभ को छोटे पर्दे ने एक बार फिर बड़े पर्दे पर जाने के लायक बनाया क्योंकि अमिताभ काफी कर्ज में डुब चुके थे क्योंकि उनकी हर बाजी उलटी पर रही थी, मगर छोटे पर्दे 'कौन बनेगा करोड़पति' में क्या आए वो एक बार फिर करोड़पति बन गए. छोटे पर्दे ने काफी फिल्मी सितारों को बचाया है जिनमें मुकेश खन्ना, अजूब खान, विनोद खन्ना, हेमा मालनी, शेखर सुमन, पंकज कपूर आदि, इतना ही नहीं शाहरुख खान, ग्रेसी सिंह आदि भी तो छोटे पर्दे की देन हैं. शाहरुख खान, सलमान खान, अक्षय कुमार, ऋतिक रोशन जैसे सितारों को सोचना चाहिए कि अगर सब कुछ वो करने लगेंगे तो विचार फ्लाप स्टारों का क्या होगा.
इतना ही नहीं रोज रोज टैलीविजन पर दिखने से इज्जत भी कम होती है, यह बात तो बेचारे शाहरुख खान से पूछ लो, जिनके टीवी शो ने उनकी नींद उड़ा दी. चलो शाहरुख खान को तो हर जगह टांग आड़ने के आदत है, अन्य स्टारों को तो सोचना चाहिए. फिलहाल तो हमको देखना है कि आखिर किस में है कितना दम, दस का दम में हैं सलमान खान, तो जानून कुछ कर दिखाने का में ऋतिक रोशन एवं फीयर फैक्टर में अक्षय कुमार हैं.