क्या सच में पाकिस्तान में पेट्रोल की कीमत 44 रुपये प्रति लीटर है?

भारत के कुछ हिस्सों में पेट्रोल की कीमत 80 रुपये के आंकड़े को पार कर गई। पेट्रोल की बढ़ती कीमतों को लेकर सरकार की आलोचना हो रही है। लेकिन, सरकार की ओर से कोई ठोस जवाब सामने नहीं आ रहा है। पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि सरकार बढ़ती वाहन तेल कीमतों को एक झटके बदल नहीं सकते।


इस बीच सोशल मीडिया पर कुछ संदेश वायरल हो रहे हैं, जिनमें कहा जा रहा है कि अगर आपको भारत में बढ़ती पेट्रोल और डीजल कीमतों से दिक्कत है, तो पाकिस्तान चले जाओ, पाकिस्तान में तेल की कीमत 44 रुपये प्रति लीटर है। हालांकि, हर किसी की कीमत अलग अलग हैं। कोई 404 रुपये, तो कोई 26 रुपये तक पेट्रोल की कीमत बता रहा है।

लेकिन, क्या सच में पाकिस्तान में पेट्रोल की कीमत 40 रुपये प्रति लीटर है? यदि देश के हिसाब से बात करूं तो बिलकुल ऐसा नहीं है। पाकिस्तान में भी पेट्रोल डीजल के भाव 70 रुपये की सीमा के पार चल रहे हैं। 30 अगस्त 2017 को द आॅयल एंड गैस रेगुलेटरी अथाॅरिटी ने पाकिस्तानी पेट्रोलियम मंत्रालय को डीजल पेट्रोल के भाव बढ़ाने की सिफारिश की है।

इस सिफारिश पत्र में कहा गया है कि डीजल में 0.7 रुपये और पैट्रोल में 2.24 रुपये लीटर की वृद्धि की जाए। यदि यह वृद्धि लागू होती है तो पाकिस्तान में डीजल का भाव 78.1 और पैट्रोल का भाव 71.8 रुपये हो जाएगा। एक बात तो साफ हो गई है कि पाकिस्तान में डीजल पेट्रोल के दाम उस कीमत पर नहीं है, जिस बात को वायरल किया जा रहा है।

हां, यदि आप पाकिस्तानी नागरिक नहीं हैं और आप भारत में रहते हैं। यहां से धन कमाकर पाकिस्तान में खर्च करते हैं, तो पाकिस्तान में आपके लिए डीजल पैट्रोल की कीमत ज्यादा मायने नहीं रखेगी क्योंकि भारतीय 1 रुपये पाकिस्तान में 1.60/64 पैसे हो जाएगा। ऐसे में आपको पेट्रोल और डीजल की कीमत चुकाने पर लगभग क्रमशः 45 और 50 रुपये का फायदा हो सकता है।

जैसे ही आप यह मुनाफा पाकिस्तान में डीजल और पेट्रोल की वर्तमान कीमतों से कम करेंगे तो आपको वहां पर डीजल और पेट्रोल क्रमशः 28 रुपये और 26 रुपये पर मिल सकता है।

Popular posts from this blog

वो रुका नहीं, झुका नहीं, और बन गया अत्ताउल्‍ला खान

आज तक टीवी एंकरिंग सर्टिफिकेट कोर्स, सिर्फ 3950 रुपए में

'XXX' से घातक है 'PPP'

विश्‍व की सबसे बड़ी दस कंपनियां

पेंटी, बरा और सोच

सावधान। एमएलएम बिजनस से

यदि ऐसा है तो गुजरात में अब की बार भी कमल ही खिलेगा!