Posts

Showing posts from July, 2012

चर्चाएं, चर्चाएं, बस चर्चाएं

Image
हम कितने फुर्सत में हैं। हमारी फुर्सत एक 27 साल के युवक (फेसबुक का संस्‍थापक) को अरबपतियों की श्रेणी में लाकर खड़ा कर देती है। इंटरनेट कंपनियों को भी मालोमाल कर देती है। हमारे देश में सब कुछ खत्‍म हो सकता है, मगर बे मतलबी बहस कभी खत्‍म नहीं होगी, क्‍यूंकि पंजाबी में एक कहावत है, वेहला बनिया की करे, इधर दे बट्टे उधर धरे, मतलब फुरसतिया दुकानदार क्‍या करे, इधर से उठाकर बटटा उधर रखे।

आमिर खान का सत्‍यमेव जयते शुरू हुआ तो उसकी प्रशंसा करने की बजाय लोगों ने उसकी पत्‍िन का मुद्दा उठा लिया, अगर पीड़ित महिलाओं पर किस्‍त आए तो आमिर की पत्‍नि को बुलाना चाहिए, जबकि उनके तलाक के बाद से अब तक दोनों परिवारों की ओर से किसी भी प्रकार की बयानबाजी सामने नहीं आई, दोनों ने शादी की थी अपनी मर्जी से, छोड़ा अपनी मर्जी से, बोले तू कौन मैं खाम खा।

जब महिलाएं मां बनने वाली होती है, तो उनका शरीर शिथिल हो जाता है, वो थोड़ी सी मोटी दिखाई पड़ने लगती है, शायद 95 फीसद महिलाओं के साथ तो ऐसा ही होता है, मगर जब ऐश्‍वर्या राय बच्‍चन के साथ ऐसा हुआ तो पूरे देश में चर्चा छिड़ गई कि ऐश मोटी हो गई। अखबारों ने भी लिख डाला, किस…

मौत को अपने साथ लिए चलता हूं मैं

Image
मौत को अपने साथ लिए चलता हूं मैं
गैरों से नहीं अपनों से ही डरता हूं मैं
शिकारी बैठे हैं ताक में यहां
यही सोच के बहुत ऊँचा उड़ता हूं मैं
मुझे है अपनी मंजिल की तलाश
उसे ही हर पल ढूंडता हूं मैं
वक़्त की परवाह नहीं है मुझको
वक़्त से भी तेज़ दौड़ता हूं मैं
रास्ता बहुत ही कठिन है मेरा
यही सोच सब कुछ करता हूं मैं
उम्मीद का दामन थामा है मैंने
उम्मीद से ही उम्मीद करता हूं मैं
मौत को अपने साथ लिए चलता हूं मैं
गैरों से नहीं अपनों से ही डरता हूं मैं अमित राजवंत के फेसबुक खाते के सौजन्‍य से

पुरुष महिलाओं के सिर्फ दोस्त नहीं हो सकते

एक नए शोध में पता चला है कि पुरुष कभी भी महिलाओं के सिर्फ दोस्त नहीं हो सकते. शोधकर्ताओं का कहना है कि पुरुषों की महिलाओं के साथ दोस्ती सिर्फ यौनाकषर्ण के कारण होती है. डेली मेल की रिपोर्ट के अनुसार, दूसरी तरफ महिलाएं पुरुषों के साथ दोस्ती को निष्काम भाव से लेती हैं.

वे उनसे कुछ ज्यादा की उम्मीद तभी करती हैं जब उनका स्वयं का रिश्ता मुश्किल में हो. 1989 की हॉलीवुड फिल्म ‘व्हेन हैरी मेट शैली’ भी इसी बात को बताती है.

फिल्म में हैरी की भूमिका निभा रहे बिली क्रिस्टल शैली की भूमिका में मेग रेयान से कहते हैं, ‘पुरुष और महिला कभी भी दोस्त नहीं हो सकते क्योंकि इस रिश्ते में सेक्स का कुछ न कुछ अंश रहता ही है.’

इस सर्वेक्षण में 88 युवा जोड़ों को शामिल किया गया था. शोध में पुरुषों में महिला मित्रों के प्रति आकषर्ण की प्रवृत्ति ज्यादा दिखी चाहे वे किसी के साथ संबंध में थे अथवा नहीं.

जबकि पहले से ही किसी पुरूष के साथ रिश्ते में बंधी महिला और एक अकेली महिला में भी पुरुष मित्रों के प्रति आकषर्ण का यही स्तर देखा गया. लेकिन संबंध में रह रही महिला, पुरुष मित्र के प्रति तभी आकषिर्त होती है जब उसका खुद का संब…

क्‍यूंकि कभी पकड़ नहीं गया

@ईमानदारी - एक कंपनी ने अपने आवेदन पत्र में लिखा क्‍या कभी आपको गिरफ्तार किया गया है? आवेदक ने उत्तर दिया नहीं, दूसरा सवाल था, अगर नहीं तो क्‍यूं, आवेदक ने बड़ी मासूमियत से उत्तर दिया, क्‍यूंकि कभी पकड़ नहीं गया।

@सोच -  याद रहे कि हम किसी को हराने की तैयारी नहीं कर रहे, क्‍यूंकि हमारा लक्ष्‍य इतना छोटा नहीं।

@भरोसा- मुझे पता है, जो हम करने जा रहे हैं वो आसान नहीं, लेकिन असंभव भी तो नहीं।

@निर्णय - ओ जे सिम्‍पसन ने कहा था, जिस दिन आप अपने बारे में पूरी जिम्‍मेदारी ले लेते हैं। जिस दिन आप बहाने बनाना बंद कर देते हैं, उसी दिन आप चोटी की ओर की यात्रा शुरू करते हैं।

@यादों के झारोखों से -  मुझे लेकर अफवाहों का बाजार हमेशा गर्म रहा, मेरा कार्य क्षेत्र भले कोई भी रहा हो। मैं जिस क्षेत्र में गया, वहां अफवाहें भी मेरे पीछे पीछे चली आई। कभी कभी सोचता हूं, कि कहीं बॉलीवुड जाने का सपना पूरा हो जाता तो यह अफवाहें मुझे हर रोज अख़बारों में स्‍पेस दिलाती। फिर सोचता हूं कि लोग कितने फुर्सत में रहते हैं, जो दूसरों पर निगाह रखकर उनकी बात दूसरों तक पहुंचाते हैं, अफवाहों में पुष्‍टि नामक शब्‍द नहीं होता…