Posts

Showing posts from January, 2012

एक कदम विकास की ओर

किसी ने बहुत अदभुत कहा है, आप दूसरों के साथ उस तरह का व्‍यवहार करें, जो आप चाहते हैं कि वह आपके साथ करें। इस नियम का जिस व्‍यक्‍ित ने भी अनुशरण किया, वह एक महान नेता बनकर उभरा है। और याद रहे कि महान नेता जनमत तैयार करते हैं, वो जनमत का इंतजार नहीं करते। अगर आप सच्‍चे एवं महान नेता बनना चाहते हैं तो जॉन वेस्‍ले के इस कथन का पूर्ण रूप से पालन करें, जिसमें वह कहते हैं।

जितनी भलाई कर सकते हों, करें
जितने साधनों से कर सकते हों, करें
जितने तरीकों से कर सकते हों, करें
जितनी बार कर सकते हों, करें
जितने लोगों के साथ कर सकते हों, करें
जब तक आप कर सकते हों, करें।