आम आदमी का खुलासा ; अदानी के हाथों में खेलता है मोदी

नई दिल्ली। आम आदमी पार्टी (एएपी) के राष्‍ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल मंगलवार को एक और खुलासा करने के दावे के साथ मीडिया से रूबरू हुए। इस बार अरविंद केजरीवाल ने गुजरात के मुख्‍यमंत्री नरेंद्र मोदी को निशाने बनाते हुए कहा कि निजी कंपनियों के हाथों में खेल रहे हैं। इससे पूर्व अरविंद केजरीवाल भाजपा अध्‍यक्ष नितिन गड़करी को निशाना बना चुके हैं, जिसको लेकर भाजपा अभी तक दुविधा में है।

गुजरात चुनावों की तरफ ध्‍यान दिलाते हुए केजरीवाल ने कहा कि चुनावों में एक तरफ मोदी हैं तो दूसरी तरफ कांग्रेस। हमारे पास कागजात हैं जो ये साबित करते हैं कि दोनों मिलकर निजी कंपनियों का फायदा करवाते हैं। हमारे कागजात के मुताबिक अगर कांग्रेस मुकेश अंबानी की दुकान है तो क्या मोदी सरकार अदानी की दुकान है।

उन्‍होंने नरेंद्र मोदी की अगुवाई वाली भाजपा सरकार आरोप लगाते हुए कहा कि 14306 एकड़ जमीन मात्र 1 रुपये से 32 रुपये प्रति यूनिट के भाव से क्यों दे दी जबकि एयरफोर्स को 8800 रुपये प्रति यूनिट के भाव से। ये सरकार देश के लिए काम कर रही है या प्राइवेट कंपनियों के लिए।

उन्‍होंने कहा कि भाजपा के नेता नरेंद्र मोदी खुद को दूध का धूला हुआ के तौर पर पेश कर रहे हैं, जबकि वो पूरी तरह भ्रष्‍ट नेता हैं।

युवारॉक्‍स व्‍यू

आम आदमी को इस तरह के बयानों से बचना होगा। वरना यह आम आदमी के लिए घातक हो सकते हैं, ऐसे आम आदमी अपनी विश्‍वनीयता खो देगा, क्‍यूंकि जितनी तेजी सकारात्‍मकता नहीं फैलती, उससे कई गुना रफतार से नकारात्‍मकता फैलती है, अगर एक बार नकारात्‍मकता फैल गई तो मिथुन चक्रवर्ती की तरह भले हर साल डेढ़ दर्जन फिल्‍में बाजार में उतारो, कोई देखने नहीं आएगा। मिथुन दा तो फिर उभर आए, अपनी उपस्‍थिति दर्ज करवाने में सफल हो गए, मगर अरविंद के लिए मुश्किल हो जाएगा, अन्‍ना तो उभर आएंगे। मीडिया का चस्‍का बुरा है। मीडिया से दूरी बनाएं, सही दिशा की ओर कदम बढ़ाएं।
                                                                               आम आदमी  से मतलब अरविंद केजरीवाल न्‍यू पार्टी

Popular posts from this blog

वो रुका नहीं, झुका नहीं, और बन गया अत्ताउल्‍ला खान

आज तक टीवी एंकरिंग सर्टिफिकेट कोर्स, सिर्फ 3950 रुपए में

'XXX' से घातक है 'PPP'

विश्‍व की सबसे बड़ी दस कंपनियां

पेंटी, बरा और सोच

सावधान। एमएलएम बिजनस से

यदि ऐसा है तो गुजरात में अब की बार भी कमल ही खिलेगा!