मच्‍छर की मौत लाइव रिपोर्टिंग

होटल का दरवाजा पूरी तरह सुरक्षित हैं, क्‍यूंकि होटल प्रबंधन को पहले ही सीआईडी टीम के आने की सूचना मिल गई थी, और बताया जा रहा है कि पिछले 15 सालों में बेगिनत दरवाजे तोड़ चुके दया से होटल प्रबंधन पूरी तरह से अवगत है, क्‍यूंकि होटल में इस शो देखने वालों की संख्‍या बहुत है।

मच्‍छर की बॉडी को अभी अभी पोस्‍टमार्टम के लिए लैब में भेज दिया गया है। सी आई डी अपने काम में जुट चुकी हैं, उम्‍मीद है कि बहुत जल्‍द मच्‍छर की मौत के पीछे का रहस्‍य खुलकर हमारे सामने आएगा।

पुलिस अधिकारियों को एक वंछित मच्‍छर की तलाश थी, लेकिन वो यह मच्‍छर है या कोई दूसरा। इस मामले में भी तहकीकात चल रही है। ऐसे में कुछ भी कहना मुश्‍किल है। आसपास के क्षेत्र में काफी तनाव महसूस किया जा रहा है। यहां यह होटल है, ये एक पॉश इलाका है। इस जगह पर मच्‍छर की उपस्‍थिति सुरक्षा व्‍यवस्‍था पर काफी सारे सवाल खड़े रही है।

अभी अभी जुड़े हमारे दर्शकों को बता देना चाहते हैं कि आज सुबह एक होटल में मच्‍छर के मृत पाए जाने की ख़बर मिली थी। ऐसे कयास लगाए जा रहे हैं कि इस मच्‍छर को पाकिस्‍तान स्‍थित आतंकवादी संगठनों द्वारा प्रशिक्षित करके भेजा गया है। डरने की कोई बात नहीं, क्‍यूंकि अभी तक इस बाबत किसी अधिकारी या अन्‍य व्‍यक्‍ित ने पुष्‍टि नहीं की।

अभी अभी पाकिस्‍तान से सूचना मिली है कि इस घटना के बाद पाकिस्‍तान से संचालित होने वाले आतंकवादी संगठनों ने आपातकालीन बैठक बुलाई है। सूत्रों की माने तो इस मीटिंग में मच्‍छरों को भारत सीमा पार करवाने वाले को मोटी राशि इनाम के रूप में देने का प्रस्‍ताव रखा गया है। इधर, रक्षा मंत्री ने संवाददाताओं से बातचीत करते हुए कहा है कि रक्षा के पूरे इंतेजाम कर लिए गए हैं, और सीमा पर सरकार की ओर से मच्‍छर मारने की दवा बनाने की सभी कंपनियों को अपने अपने उत्‍पाद उपलब्‍ध करवाने के आदेश्‍ा दे दिए गए हैं।

अभी अभी सूचना मिली है कि दवाओं का चक्रव्‍यूह तोड़ते हुए पाकिस्‍तान की सीमा से करीबन 150 से 200 मच्‍छरों का एक झुंड भारतीय सीमा में प्रवेश कर गया। दवाओं के असर न करने से केंद्र सरकार पूरी तरह बुखला चुकी है एवं विपक्ष ने सरकार को निशाना बना शुरू कर दिया है। इस हफरा दफरी के बीच अनन फनन नेताओं के बयान आ रहे हैं।

दिल्‍ली से हमारे साथ विवेक जुड़ रहे हैं, विवेक इस मामले को लेकर सरकार का क्‍या कहना है, अभी अभी रक्षा मंत्री से बातचीत हुई तो उन्‍होंने कहा है कि मच्‍छरों को मारने के लिए नगर निगमों को आदेश दे दिए गए हैं, जल्‍द ही इन मच्‍छरों को मार दिया जाएगा। मगर विनीता इस बात में कोई दम नहीं, क्‍यूंकि ज्‍यादा नगर निगमों के पास मच्‍छर मारने वाली मशीनें पहुंची नहीं, और कुछ नगर निगमों के पास दवाईयां कई सालों से खत्‍म हो चुकी हैं।

उधर, सरकार ने सीमा पर मच्‍छर मारने की वाली दवाओं के असफल होने पर सभी बड़ी कंपनियों से जवाब मांगा है कि वो टीवी पर प्रसारित विज्ञापनों में जो दावा करते हैं, वो पूर्ण रूप से सही नहीं है, इसका नतीजा हम बॉर्डर पर देख चुके हैं।

अब देखना यह होगा कि मच्‍छर की मौत के बाद उछला पूरा मामला आखिर कहां जाकर समापत होता है। सरकार अब मच्‍छर मार दवा बनाने वाली कंपनियों से जवाब तलब करेगी। देखते हैं मच्‍छर मार दवा बनाने की वाली कंपनियां क्‍या तर्क देती हैं।

अब एक बार फिर मुम्‍बई की तरफ रुख करते हुए उमेश से जानते हैं, मच्‍छर की मौत की गुत्‍थी सुलझी या उलझी। विनीता जैसे के आप जानती हैं कि आज सुबह एक मच्‍छर की मृत हुई, उसके बाद मुम्‍बई काफी सहम सी गई थी, खासकर पॉश इलाकों में रहने वाली पब्‍िलक।

मगर कुछ समय पहले लैब से आई रिपोर्टों ने चौंक देने वाला खुलासा किया है। विनीता आई रिपोर्टों के मुताबिक जिस कमरे में मच्‍छर मृत पाया गया, वहां पर कल रात कुछ नेताओं की मीटिंग आयोजित हुई थी। और मच्‍छर में मानव खून के कण पाए गए हैं, जो मच्‍छर के जहर से भी ज्‍यादा जहरीले हैं। रिपोर्ट से स्‍पष्‍ट हो चुका है कि यह मच्‍छर आम मच्‍छर था, इसका पाकिस्‍तान एवं अन्‍य देश से कोई लेन देन नहीं। सहमी हुई पॉश इलाके की पब्‍लिक अब सुखद का सांस ले सकती है, क्‍यूंकि इस मच्‍छर का आतंकवादी संगठनों से कोई मेल मिलाप नहीं। यह साधारण नाली का मच्‍छर था, जो गलती से हवा के साथ उड़कर पॉश इलाके में पहुंच गया, बताया जा रहा है कि मच्‍छर काफी दिनों से प्‍यासा था, उस में उड़ने की ताकत नहीं थी, हवा उसको होटल तक खींच लाई। यहां उसने एक नेता को काट लिया और सदैव के लिए मौत की गोद में सो गया।

मगर सीआईडी की टीम आई तक कशमकश में है कि नेताओं की रगों में रक्‍त की जगह में ज़हर कब से बहने लगा।

6 प्रतिक्रिया:

  1. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति शुक्रवार के चर्चा मंच पर ।।

    कभी दर्शन दीजिये चर्चा मंच पर ।।

    ReplyDelete
  2. बढ़िया पोस्ट ।
    मेरी नयी पोस्ट "10 रुपये के नोट नहीं , अब 10 रुपये के सिक्के" को भी एक बार अवश्य पढ़े ।
    मेरा ब्लॉग पता है :- harshprachar.blogspot.com

    ReplyDelete
  3. अच्छा भाई मिडिया को दसत वाली पोस्ट पर लिख दिया है आपका नाम आप निश्चिन्त रहे.. और नारज ना हो उस समय दिमाग से निकल गया था..

    ReplyDelete

हार्दिक निवेदन। अगर आपको लगता है कि इस पोस्‍ट को किसी और के साथ सांझा किया जा सकता है, तो आप यह कदम अवश्‍य उठाएं। मैं आपका सदैव ऋणि रहूंगा। बहुत बहुत आभार।